नई दिल्ली, जेएनएन। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Central Board of Secondary Education- CBSE) कक्षा 10वीं और कक्षा 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की फीस बढ़ाने को लेकर सुर्खियों में हैं। खबर के मुताबिक सीबीएसई ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों को पांच विषयों के लिए फीस 50 रुपये से बढ़ाकर 1,200 रुपए कर दी है। ऐसे में कहा जा रहा है कि सीबीएसई ने 24 गुना फीस बढ़ा दी है। हालांकि, ऐसा नहीं है सीबीएसई ने सिर्फ दो गुना फीस में बढ़ोत्तरी की है। इस बातों का जिक्र सीबीएसई द्वारा जारी नोटिफिकेशन में भी किया गया है।

दरअसल मामला यह है कि सीबीएसई द्वारा दिल्ली में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों से 350 रुपए शुल्क लिया जाता था। जिसमें 300 रुपए का भुगतान दिल्ली सरकार करती थी और बाकि बचे 50 रुपए छात्रों द्वारा दिया जाता था। सीबीएसई ने नोटिफिकेशन में बताया कि यह मामला दिल्ली सरकार का आंतरिक मामला है। वहीं, पूरे देश में सभी छात्रों की फीस 750 रुपए थी, जिसे बढ़ा कर 1500 रुपए कर दी गई है। ऐसे में देखें तो फीस दोगुना बढ़ाई गई है।

हालांकि, जो बात 24 गुने फीस बढ़ोत्तरी की हो रही थी, वह सिर्फ दिल्ली के अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों पर लागू होती है। अब उनकी फीस में 24 गुने की बढ़ोत्तरी की गई है। वहीं, इस फीस को लेकर दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा है कि अगर चीजें ऐसी जारी रहीं, तो सरकार अपने बोर्ड पर विचार करेगा।

CBSE ने काफी अधिक बढ़ाई 10वीं और 12वीं की परीक्षाओं की फीस, जानें इसकी मुख्‍य वजह

बता दें कि इस मामले को सीबीएसई पहले से सफाई दे चुका है। सीबीएसई ने कहा है कि बोर्ड ने पांच साल बाद फीस में बढ़ोत्तरी की है। यह सिर्फ दिल्ली में नहीं हुआ है,बल्कि पूरे देश में ऐसा किया गया है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rajat Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस