नई दिल्ली, जेएनएन। सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन, सीबीएसई जल्द ही 2020 में 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं के लिए जल्द ही प्रक्रिया शुरू करने जा रहा है। बोर्ड अगस्त या सितंबर में बोर्ड फॉर्म जमा करने की प्रक्रिया शुरू करेगा। जो छात्र इस साल अपने विषय बदलना चाहते हैं वो 15 जुलाई से पहले बदलाव कर सकते हैं। बोर्ड ने 10वीं और 12वीं के छात्रों को विषय संबंधी बदलाव के लिए 15 जुलाई, 2019 तक का समय दिया है।  वहीं दोनों कक्षाओं के लिए प्रत्येक स्कूल से विषय में बदलाव के एक-एक अनुरोध को ही स्वीकार किया जाएगा।

CBSE की तरफ से स्कूलों को कहा गया है कि 15 जुलाई के बाद विषय में बदलाव करना छात्रों के लिए संभव नहीं होगा। बोर्ड के मुताबिक दसवीं और बारहवीं में विषय संबंधी बदलाव की प्रक्रिया को कारगर बनाने के लिए मानक संचालन प्रक्रिया तैयार की गई है। जिसके अनुसरार, विषय परिवर्तन के लिए छात्र और अभिभावक ही अनुरोध कर सकेंगे। यदि स्कूल वहीं है तो छात्र को विषय बदलाव के लिए अपनी पिछली क्लास का रिपोर्ट कार्ड भी देना होगा। इसके अलावा मेडिकल आधार पर विषय में बदलाव के लिए छात्र को सरकारी अस्पताल का मेडिकल प्रमाणपत्र भी देना होगा।

स्कूल को विषय बदलाव का अनुरोध मिलने के बाद विश्लेषण किया जाएगा कि वह कारण वास्तविक है या नहीं। छात्र का प्रदर्शन 9वीं और 11वीं कक्ष में कैसा रहा और स्कूल में उस विषय को पढ़ाने के लिए शिक्षक उपलब्ध है या नहीं। स्कूल को अपने स्कूल के विषय बदलाव के अनुरोध को संबंधित दस्तावेज के साथ 21 जुलाई तक बोर्ड को भेजना होगा। अनुरोध में कमी पाए जाने पर बोर्ड का क्षेत्रीय कार्यालय 20 अगस्त तक स्कूल को बताएगा। स्कूल को सभी कमियों को पूरा करने के लिए 27 अगस्त तक का समय दिया जाएगा। 15 सितंबर तक सीबीएसई इस पर अपनी मंजूरी दे देगा।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021