अमरोहा, जेएनएन। लैंडमार्क पैरामेडिकल कॉलेज के बाद अब श्री वेंकटेश्वरा यूनिवर्सिटी पर फर्जीवाड़े का आरोप लग रहा है। छात्र-छात्राओं ने बगैर अनुमति के ओटी टेक्नीशियन कोर्स में दाखिला दिलाने का आरोप लगाया है। जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर मामले की जांच कराने तथा कार्रवाई कराने की मांग की है।

कहा, यूनिवर्सिटी के पास 2018-19 में ओटी टेक्नीशियन कोर्स की मान्यता नहीं थी

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के बैनर तले कलेक्ट्रेट पहुंचे छात्र-छात्राओंने यूनिवर्सिटी प्रबंधन के खिलाफ प्रदर्शन व नारेबाजी की। धोखा देने का आरोप लगाया। डीएम उमेश मिश्र को ज्ञापन देकर कहा कि यूनिवर्सिटी के पास 2018-19 में ओटी टेक्नीशियन कोर्स की मान्यता नहीं थी। बावजूद इसके यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने उन्हे गुमराह कर शुल्क लेकर एडमीशन दे दिया।

यूनिवर्सिटी प्रबंधन कह रहा है कि फरवरी 2020 से दोबारा प्रथम सत्र से कोर्स की शुरूआत कराएंगे

यह भी बोले, परीक्षा करा दी, जिन छात्र-छात्राओं की परीक्षा में बैक आई, उनसे फिर पैसे जमा करा लिए। आरोप लगाया कि अब यूनिवर्सिटी प्रबंधन कह रहा है कि फरवरी 2020 से दोबारा प्रथम सत्र से कोर्स की शुरूआत कराएंगे। उन्होंने डीएम से यूनिवर्सिटी में संचालित कोर्सो की जांच कराने की मांग की।

प्रदर्शन करने वालों में एबीवीपी के प्रांत सहमंत्री विपिन सागर रहे शामिल

प्रदर्शन करने वालों में संगठन के प्रांत सहमंत्री विपिन सागर, पियूष कुमार, गुफरान अली, अमरपाल ङ्क्षसह, मुख्तार आलम व ङ्क्षचटू शामिल थे। इस मामले में डीएम ने निष्पक्ष जांच कराने का आश्वासन दिया है।

यूनिवर्सिटी में संचालित सभी कोर्स की अनुमति : प्रतिकुलाधिपति

इस संबंध में यूनिवर्सिटी के प्रतिकुलाधिपति राजीव त्यागी ने बताया छात्र-छात्राओं को गलतफहमी हुई है। उनके पहले सत्र का परीक्षा कार्यक्रम देरी से प्राप्त हुआ। अब उनकी परीक्षा कराई जा रही है। उनसे दूसरे सत्र का शुल्क जमा करने को कहा गया था। यूनिवर्सिटी में संचालित सभी कोर्स की अनुमति है।  

Posted By: Narendra Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस