जागरण संवाददाता, यमुनानगर : पांच वर्षीय दिव्यजोत कौर की हत्यारोपित मां महिद्र कौर को रविवार को कोर्ट में पेश किया। जहां से उसे पांच दिन के रिमांड पर लिया गया है। पुलिस पूछताछ में उसने जुर्म कबूल कर लिया। पुलिस को बताया कि दिव्यजोत कौर पिता की दुलारी थी। अपने पिता को याद कर रोती रहती थी। जिस वजह से वह परेशान हो गई थी। इसलिए ही उसकी चुन्नी से गला दबाकर हत्या कर दी। हालांकि अभी इस वारदात में प्रेमी के शामिल होने की जांच पुलिस करेगी, क्योंकि आरोपित दो बार बयान बदल चुकी है। कभी वह कार में हत्या किए जाने की बात कह रही है, तो कभी होटल में जहर देकर हत्या करने की। जबकि वारदात के चश्मदीद उसके आठ वर्षीय बेटे हरकीरत ने होटल के कमरे में एक अंकल के साथ दिव्यजोत कौर की हत्या करने की बात पुलिस को बताई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में भी चुन्नी से ही गला दबाने से हत्या किए जाने की पुष्टि हुई है। आरोपित महिद्र कौर की कालेज के समय से अमित के साथ दोस्ती थी। दोनों अक्सर मिलते थे। वर्ष 2012 में महिद्र कौर की शादी कुलदीप नगर निवासी कुलविद्र सिंह के साथ हो गई। वह मानेसर में मारूति प्लांट में नौकरी करता है। शादी होने के बाद भी आरोपित अपने प्रेमी अमित से मैसेंजर के जरिए चैट करती थी। पति ने उसकी चैट पढ़ ली। जिस पर घर में काफी विवाद हुआ। तलाक तक मामला पहुंच गया, लेकिन दोनों परिवारों के बीच बातचीत से वर्ष 2014 में समझौता हो गया। जिसमें महिद्र कौर ने दोबारा अमित से कोई संबंध न रखने की बात कही। इसके बाद वह साथ रहने लगे। इस दौरान ही दिव्यजोत का जन्म हुआ। एक अगस्त को फिर से उसके मोबाइल में प्रेमी संग हुई बातचीत की चैट पकड़ी गई। जिस पर उसका पति के साथ झगड़ा हुआ। पति मोबाइल अपने साथ लेकर चला गया था। नौ अगस्त को फिर से फोन पर उसका पति के साथ झगड़ा हुआ। इसके बाद वह बेटी दिव्यजोत व बेटे हरकीरत को लेकर अमृतसर चली गई। वहीं पर उसने बेटी की हत्या की और उसका शव श्री हरिमंदिर साहिब के गोल्डन प्लाजा में छोड़ दिया। कोट्स : गांधीनगर थाना प्रभारी सुभाष चंद्र ने बताया कि लापता होने के बाद महिद्र कौर कहां पर रही। उन जगहों की निशानदेही करानी है। उसके प्रेमी अमित के बारे में पता लगाना है। वारदात में प्रयोग की गई चुन्नी भी बरामद करनी है। इसलिए कोर्ट से पांच दिन का रिमांड लिया गया है।

Edited By: Jagran