मोतिहारी। डीएम शीर्षत कपिल अशोक ने बुधवार को गायघाट पंचायत के विभिन्न योजनाओं की जांच की। इस दौरान उन्होंने आईसीडीएस द्वारा संचालित आंगनबाड़ी केंद्र का जायजा लिया। जहां आंगनबाड़ी केंद्रों की स्थिति ठीक नहीं मिली। केंद्र संख्या 224 पर मात्र सात बच्चे मिले। गायघाट हाई स्कूल की स्थिति अच्छी नहीं दिखी। जिसके कारण डीएम ने आईसीडीएस के डीपीओ, हरसिद्धि सीडीपीओ, गायघाट पंचायत की महिला पर्वेक्षिका व प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी का वेतन बंद करने का निर्देश दिया। प्रधानमंत्री आवास योजना, नलजल योजना, विद्युत से पानी पटवन, उर्वरक की उपलब्धता आदि का जायजा लिया। आवास पर्यवेक्षक व आवास सहायक को निर्देश दिया कि आवास योजना को यथाशीघ्र पूर्ण कराए। कार्य नहीं करने वाले लाभुकों पर नीलाम पत्र वाद दायर करें। उर्वरक वितरण पर भी विस्तृत चर्चा की गई। गायघाट में यूरिया की आपूर्ति करने का डीएओ को निर्देश दिया। पंचायत सरकार भवन के लिए प्रस्तावित भूमि का अवलोकन कर सीओ को रिपोर्ट देने का निर्देश दिया। मुखिया बबिता कुमारी के आग्रह पर डीएम ने संबंधित अधिकारी को भूमि चयन कर एसडब्ल्यूएम गायघाट में लागू करने का निर्देश दिया। धान अधिप्राप्ति की जानकारी ली। जांचोपरांत डीएम ने पंचायत भवन पर आम जनता की समस्याओं से रूबरू हुए। तकरीबन सभी ने यहां हो रहे कार्यों पर संतोष व्यक्त किया। मौके पर सामाजिक सुरक्षा के निदेशक, बीडीओ मनोज पासवान, बीपीआरओ आलोक श्रीवस्ताव, बीएओ रामपुकार पासवान, मुखिया बबिता कुमारी, सरपंच सुरेश सिंह, कृषि समन्वयक रामा प्रसाद सिंह, किसान सलाहकार रंजन सिंह, संतोष सिंह, संतोष पासवान, शिक्षक संतोष सिंह, मुकेश सिंह, पंचायत सचिव हरिशंकर यादव सहित कई थे।

Edited By: Jagran