दर्शन को व्याकुल...मन मथुरा, तन गोकुल

बाराबंकी : भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की रौनक घर से लेकर बाजार तक छाई है। मंदिरों व थानों में जन्माष्टमी की तैयारी चल रही है। बच्चों को श्रीकृष्ण के रूप में सजाया जा रहा है। नगर के पुलिस लाइन स्थित मंदिर पर श्रीकृष्ण की झांकी सजाई जा रही है। नगर की मुख्य बाजार में इस बार पहले से ज्यादा दुकानें भगवान श्रीकृष्ण की मूर्तियां, फोटो व झांकी सजाने की वस्तुओं की लगाई गई हैं। बुधवार को जन्माष्टमी की खरीदारी करने की होड़ रही। इस अवसर पर एमबी कालेज में विद्यार्थियों ने झांकी बनाई। छात्र-छात्राओं ने दही मटकी लेकर व राधा कृष्ण की वेशभूषा में गीत व नृत्य के कार्यक्रम प्रस्तुत किए। सामग्री पर जीएसटी का असर : जन्माष्टमी से सामग्री के दामों पर भी जीएसटी का असर दिखा। नंदगोपाल को सजाने की सामग्री बेच रहे दुकानदार आकाश श्रीवास्तव ने बताया कि जीएसटी के कारण सजावटी समान में 10 से 15 रुपये की बढ़ोतरी हुई है। नंदगोपाल की सबसे छोटी मूर्ति 30 रुपये की है, उनके कपड़े 10 रुपये से शुरू होकर 70 रुपये तक हैं। मुकुट 30 रुपये, पालना 150 से 450 रुपये तक। झूमर 10 रुपये से 40 रुपये तक, बांसुरी और मोरपंख 10 से 40 रुपये और भगवान का बिस्तर 10 रुपये से 30 रुपये तक मिल रहा है। कान्हा की पोशाक 200 रुपये से कम नहीं है। फलों के दाम भी बढ़े : कल तक 30 रुपये किलो बिक रहा अमरूद जन्माष्टमी के मौके पर 40 रुपये किलो बिकने लगा है, केला 50 से 60 रुपये में है। नंदगोपाल की पूजा में विशेष रूप से प्रयोग किए जाने वाला खीरा बाजार में 10 रुपये का एक मिल रहा है। मटकी फोड़ प्रतियोगिता कल : अलियाबाद में शुक्रवार को मटकी फोड़ने की प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा। बाल एकता संगठन के अध्यक्ष दुर्गेश गुप्ता ने बताया कि वर्ष 2012 से प्रतियोगिता आयोजित की जाती है। क्षेत्र के सैकड़ों युवा हिस्सा लेते हैं। 22 फीट की ऊंचाई पर मटकी टांगी जाती है। मटकी के ऊपर नारियल रखा जाता है। शांति समिति की बैठक : कोतवाली फतेहपुर में जन्माष्टमी शांति पूर्वक मनाए जाने के संबंध में तहसीलदार राहुल सिंह व प्रभारी निरीक्षक अनिल कुमार पांडेय ने नागरिकों के साथ शांति समिति की बैठक की।

Edited By: Jagran