डायरिया के बढ़ने लगे रोगी, स्वास्थ्य महकमा सतर्क

सलोन, (रायबरेली) : संक्रामक रोग के साथ डायरिया क्षेत्र में तेजी से फैलने लगा है। सरकारी और निजी अस्पताल के बेड भरे हुए हैं। कस्बे के निजी डाक्टरों की क्लीनिक और सरकारी अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने की जगह कम पड़ने लगी है। इनमें कुछ की हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल और लखनऊ रेफर कर दिया गया है। बढ़ रहे रोगियों को देखते हुए स्वास्थ्य महकमा सतर्क हो गया है। सलोन नगर पंचायत के लगभग सभी मोहल्लों में लगभग चार दिनों से डायरिया के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। पैगम्बरपुर पश्चिमी की रहने वाली पूनम, पूर्वी की गायत्री साहू और उसका लड़का आनंद साहू पिछले चार दिनों से अस्पताल में भर्ती हैँ। मियां साहब का फाटक निवासी शिबलू, उसकी मां विधा देवी, बहन सिमरन, नई बाजार निवासी सुनील कुमार और उनके पिता भी डायरिया की चपेट में है। सुनील की हालत बिगड़ने पर उन्हें लखनऊ के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। क्षेत्र के लगभग अब तक एक सैकड़ा से अधिक लोग डायरिया की चपेट में आ चुके हैं। इसी के साथ ही बुखार और टाइफाइड के मरीजों की संख्या भी बढ़ने लगी है। दूषित पेयजल आपूर्ति का लगाया आरोप नगर पंचायत से दूषित पेयजल आपूर्ति का भी आरोप लगाया जा रहा है। डायरिया की चपेट में आने वाले रोगियों ने दूषित पानी पीने से बीमार होने की बात कही है। नगर पंचायत अध्यक्ष चौधरी अशफाक का कहना है कि कुछ लोगों ने ऐसी अफवाह फैलाई है कि सप्लाई का पानी पीने से हर घर के लोग बीमार हो रहे है। यह गलत है। डायरिया की वजह मौसम में बदलाव का होना है। तीन-चार दिनों से कस्बे में डायरिया के मरीजों की संख्या बढ़ी है। अस्पताल में मरीजों को भर्ती कर उनका उपचार किया जा रहा है। नगर पंचायत के सभी वार्डो में स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच करने गई हुईं हैं। -डा. रूपेश जायसवाल, कार्यवाहक प्रभारी चिकित्साधिकारी

Edited By: Jagran