जागरण संवाददाता, पटियाला : डेंगू की रोकथाम के लिए सेहत विभाग द्वारा जिला भर में चेकिग करना शुरू कर दिया है। वहीं, दूसरी ओर सरकार द्वारा डेंगू टेस्ट का छह सौ रुपये रेट तय कर दिया गया है। जिसके बाद सिविल सर्जन दफ्तर द्वारा प्राइवेट अस्पताल, क्लीनिक व लैबोरेटरियों को पत्र भेजकर नोटिस बोर्ड पर रेट लिखने के निर्देश जारी किए हैं।

सिविल सर्जन डा. राजू धीर ने वीरवार को सभी सीनियर मेडिकल अफसर से मीटिग की और प्राइवेट अस्पताल, क्लीनिक, लैबोरेटरियों के साथ-साथ प्रधान आईएमए को पत्र भेजकर नोटिस बोर्ड पर रेट की जानकारी देने को कहा गया है। उन्होंने कहा कि डेंगू के टेस्टिग के लिए मरीज से 600 रुपये से ज्यादा चार्ज नहीं किया जा सकता। उन्होंने बताया कि डेंगू कंफर्मेशन अलीजा टेस्ट के जरिए करवाने के लिए सैंपल माता कौशल्या अस्पताल भेजना जरूरी बनाएं व किसी भी स्थिति में डेंगू केसों को बिना किसी जरूरत के दाखिल न किया जाए। डेंगू के इलाज के लिए सरकार द्वारा जारी क्लीनिक गाइडलाइंज का पालन किया जाना चाहिए। इस दौरान जिला एपिडिमोलोजिस्ट डा. सुमित ने कहा कि अब तक सेहत विभाग की टीमों द्वारा 36344 घरों में खड़े पानी के स्त्रोत की चेकिंग करके 4219 जगहों से लारवा मिलने व नष्ट करवाया गया। उन्होंने बताया कि जिला में डेंगू बुखार की जांच करने के लिए जिला में चार टेस्टिग सेंटर माता कौशल्या अस्पताल, राजिदरा अस्पताल, सिविल अस्पताल नाभा व राजपुरा में स्थापित किया गया है। इसके अलावा सरकारी सेहत संस्थाओं में डेंगू बुखार की जांच के लिए ब्लड के सैंपल एकत्रित करके इनके टेस्टिग सेंटर पर भेजे जाते है व डेंगू मरीजों के इलाज के लिए अलग डेंगू वार्ड बनाया गया है।

Edited By: Jagran