जागरण संवाददाता, गोहाना : भारतीय किसान यूनियन चढूनी के पदाधिकारियों और किसानों ने मंगलवार को शामलात देह, जुमला मुस्तरका मालिकान भूमि का मालिकाना हक काश्तकारों को देने की मांग की। इसके लिए राज्य सरकार विधानसभा का विशेष सत्र बुलाकर कानून बनाएं। इस मांग को लेकर यूनियन के प्रतिनिधिमंडल ने गोहाना हलका के विधायक जगबीर मलिक के पीए नरेंद्र सांगवान और बरोदा हलका के विधायक इंदुराज नरवाल के भाई इंदुपाल को ज्ञापन सौंपे।

यूनियन के प्रदेश उपाध्यक्ष सत्यवान नरवाल, जिला अध्यक्ष अशोक लठवाल, गोहाना के चेयरमैन संदीप मलिक, कृष्ण मलिक, पूर्ण छिछड़ाना, सुनील कुमार, जयभवागन, जगमेंद्र, दिलबाग आदि पहले बरोदा हलका के विधायक इंदुराज नरवाल और उसके बाद गोहाना हलका के विधायक जगबीर सिंह मलिक के कार्यालय पर गए। सत्यवान नरवाल ने कहा कि शामलात देह, जुमला मुस्तरका मालिकान भूमि का मालिकाना हक काश्तकार किसानों से वापस लेकर पंचायत को देने के संबंध में राज्य सरकार आदेश जारी कर चुकी है। जमीन खाली करने को लेकर नोटिस जारी किए जा रहे हैं। अशोक लठवाल ने कहा कि काफी किसान इन जमीनों पर पीढि़यों से खेती करते आ रहे हैं। आजादी से पहले भी किसानों का पूरा मालिकाना हक था और इसे बेच सकते थे। गिरदावरी भी किसानों के नाम है। उच्च न्यायालय से फैसला किसानों के हक में आया था। बाद में सर्वाेच्च न्यायालय ने इस मामले में जमीनों को पंचायतों को देने का आदेश दिया। इस फैसले से काफी किसान बर्बाद हो जाएंगे। ऐसे में राज्य सरकार विधानसभा सत्र बुलाकर जमीन का हक किसानों को देने के लिए कानून बनाएं। यूनियन नेताओं ने विधायकों से किसानों की आवाज उठाने की मांग की।

Edited By: Jagran