मुजफ्फरपुर। दादर पुल से शुक्रवार की सुबह बूढ़ी गंडक नदी में कूदी फौजी जितेंद्र कुमार दास की पत्नी सावित्री देवी (24) का शव शनिवार को सिकंदरपुर सीढ़ी घाट के निकट मिला। एनडीआरएफ की टीम की खोज में उसका शव वहां मिला। उसके भाई अहियापुर के गणेशपुर निवासी नरेंद्र कुमार ने आरोप लगाया है कि संतान नहीं होने के कारण ससुराल वाले प्रताड़ित करते थे। इससे तंग आकर उसने खुदकुशी की। खुदकुशी के लिए उसने पति जितेंद्र कुमार दास, उसके बड़े भाई सत्येंद्र दास, भाभी माया देवी को जिम्मेदार बताया है। नरेंद्र कुमार ने पुलिस को बताया कि उसकी बहन सावित्री देवी की शादी 2018 में पूर्वी चंपारण जिला के केसरिया थाना के दिलावरपुर गांव के जितेंद्र कुमार दास से हुई थी। वह ब्रह्मपुरा थाना के लक्ष्मी चौक के निकट बृजबिहारी गली में किराये के मकान में रहती थी। शादी के तीन साल बाद भी सावित्री को कोई संतान नहीं हुआ। इसको लेकर उसके पति व भाई-भाभी उसे बराबर प्रताड़ित करते थे। उसके साथ मारपीट की जाती थी। बहनोई फौज में नगालैंड में है। गुरुवार की रात उसके बहनोई ने मोबाइल पर उसकी बहन के साथ अभद्र भाषा का प्रयोग किया। इस प्रताड़ना से तंग आकर शुक्रवार की सुबह उसकी बहन सावित्री देवी ने दादर पुल से बूढ़ी गंडक नदी में कूदकर खुदकुशी कर ली। श्रीकृष्ण चिकित्सा महाविद्यालय एवं अस्पताल के पुलिस चौकी के प्रभारी आदित्य कुमार ने बताया कि महिला के भाई ने प्रताड़ना से तंग आकर बूढ़ी गंडक नदी में कूद कर खुदकुशी का आरोप लगाया है। उनके बयान पर प्राथमिकी दर्ज कर मामले की जांच की जा रही है।

Edited By: Jagran