लखनऊ, जागरण संवाददाता। साइबर जालसाजों ने महिला समेत चार लोगों से तीन लाख रुपये हड़प लिए। खाते से हुए ट्रांजेक्शन का मैसेज आने पर पीड़ितों को धोखाधड़ी का पता चला। जिसके बाद आशियाना, अलीगंज, वजीरगंज और सरोजनीनगर कोतवाली में मुकदमे दर्ज कराए गए हैं।

वजीरगंज क्रिश्चियन कालेज निवासी मनीषा प्रसाद ने आनलाइन खाना आर्डर किया था। मोबाइल वालट से वह रेस्त्रां का बिल अदा कर रही थीं। लेकिन तकनीकी कारण से ट्रांजेक्शन पूरा नहीं हुआ। जिसके बाद मनीषा ने इंटरनेट से रेस्त्रां का कस्टमर केयर निकाला। जिस पर काल करने के बाद ही उनके खाते से 77 हजार रुपये निकल गए।

वहीं, आशियाना सेक्टर-एम निवासी रघुवंश किशोर दुबे ने मकान किराए पर देने के लिए प्रापर्टी वेबसाइट पर पोस्ट डाली थी। जिसे देखने के बाद सीआईएसएफ दारोगा बन कर ठग ने उन्हें फोन किया। मकान किराए पर लेने की बात कहते हुए आनलाइन एडवांस भेजने के बहाने एक क्यूआर कोड मांग लिया। इसके बाद ही पीड़ित के खाते से 60 हजार रुपये निकल गए।

इसके अलावा अलीगंज सेक्टर-जी निवासी रवि प्रकाश गुप्ता के डेबिट कार्ड का क्लोन बना कर ठगों ने खाते से दस हजार रुपये निकाल लिए। वहीं, सरोजनीनगर निवासी रामचंद्र वर्मा को बैंक कर्मी बन ठग ने फोन किया। उनसे कार्ड और ई-वॉलट की जानकारी धोखे से हासिल करने के बाद आरोपी ने खाते से एक लाख 60 हजार रुपये निकाल लिए। ट्रांजेक्शन मैसेज आने पर पीड़ित को धोखाधड़ी का पता चला। जिसकी एफआईआर सरोजनीनगर थाने में दर्ज कराई गई है।

Edited By: Vrinda Srivastava