जासं, सहरसा : महंगाई ने लोगों की बजट को बिगाड़ दिया है। आम उपभोक्ता वस्तुओं की कीमत निरंतर बढ़ने से आम लोग बेहाल हैं। चावल और आटा की कीमतों में उछाल आ गया है। हालांकि सरसों तेल और रिफाइन की कीमत स्थिर है। दाल, मसाला, सीमेंट, छड़, वाशिग पाउडर के दामों में वृद्धि हुई है।

---

क्या कहते हैं दुकानदार

---

किराना दुकानदार दीपक कुमार ने बताया कि कीमतों में वृद्धि से खुदरा बिक्री प्रभावित हुआ है। खासकर दाल व चावल जो अच्छे क्वालिटी के खाते थे अब वो ग्राहक निम्न स्तर की डिमांड करते हैं। उन्होंने कहा कि मसाला की बिक्री प्रभावित हुई है। किराना दुकानदार रिटू ने बताया कि थोक मार्केट में उछाल का सीधा असर खुदरा दुकानदारों पर पड़ता है। लोग अब सोच-समझकर खरीदारी करते हैं। खुदरा सामानों का स्टाक भी नहीं करते हैं। रोजमर्रा की जिदगी पर महंगाई का असर पड़ा है।

----

क्या कहते हैं लोग

----

डीबी रोड के विनोद कुमार, बेचन कुमार, सुभाष सिंह कहते हैं कि महंगाई ने जीना मुहाल कर दिया है। आम उपभोक्ता वस्तुओं की कीमत में निरंतर वृद्धि हुई है। सरसों तेल की कीमत में जरूर कुछ कमी आई है। परंतु आटा व चावल के दामों में प्रति क्विटल दो सौ रुपये की वृद्धि हुई है। पेट्रोल, डीजल व रसोई गैस की कीमतों में वृद्धि का सीधा असर घर के बजट पर पड़ा है। घर बनाने वाले लोग भी महंगाई के कारण घर बनाने से परहेज करने लगे हैं।

----

तुलनात्मक कीमत

----

सामान का नाम- जुलाई 2021- अगस्त 2022 में कीमत

-----------

सरसों तेल- 150 प्रति लीटर- 160 प्रति लीटर

चना दाल- 60 प्रति किलो- 65 प्रति किलो

मसूर दाल- 70 प्रति किलो- 85 प्रति किलो

अरहर दाल- 90 रुपये प्रति किलो- 110 प्रतिकिलो

चावल 24 कैरेट- 950 रुपये 25 किलो पैकेट- 1150 रुपये

आटा- 140 रुपये पांच किलो का पैकेट- 140 रुपये

रिफाइन- 140 प्रति लीटर- 150 प्रति लीटर

गरम मसाला- 70 रुपये सौ ग्राम- 80 रुपये सौ ग्राम

सीमेंट- 310 प्रति बोरी- 400 प्रति बोरी

छड़- 48 सौ प्रति क्विटल- 78 सौ प्रति क्विटल

Edited By: Jagran