आगरा, जागरण टीम। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जन्माष्टमी के त्योहार पर कान्हा की नगरी वृंदावन पहुंच चुके हैं। वे यहां नवनिर्मित अन्नपूर्णा भाेजनालय का लोकार्पण करते हुए श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित करने वाले हैं। इस भाेजनालय का जैसा नाम है अन्नपूर्णा, वैसी ही इसकी खासियत भी है। मुख्यमंत्री ने यहां इलेक्ट्रिक बस सेवा का भी शुभारंभ किया। 

वृंदावन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का हेलीकॉप्टर पवनहंस हेलीपेड पर दोपहर करीब डेढ़ बजे पहुंचा। यहां संस्कृति मंत्री ठाकुर जयवीर सिंह, गन्ना विकास मंत्री चौधरी लक्ष्मीनारायण, सूर्यप्रताप शाही समेत स्थानीय विधायको ने बुके देकर किया स्वागत, स्वागत के बाद मुख्यमंत्री का काफिला अन्नपूर्णा रसोई के लिए रवाना हुआ। यहां विजय कौशल महाराज व अन्य ने उनका स्वागत किया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अन्नपूर्णा रसोई का लाेकार्पण करने के बाद श्रद्धालुओं को प्रसाद वितरित किया और संत समाज से भेंट की। इस दौरान आचार्य बालकृष्ण भी मौजूद हैं।

सीएम ने कहा, बांकेबिहारी की प्रेरणा

समारोह को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि आज श्रीकृष्ण जन्माष्टमी है। ये हमारा सौभाग्य है कि श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के साथ अन्नपूर्णा भोजनालय के शुभारंभ का अवसर मिला है। संत विजय कौशल जी ने अन्नपूर्णा भोजनालय के बारे में अवगत कराया था। आज हम जो भी करते हैं, उसके पीछे भगवान का ही मंत्र है, उसी से प्रेरणा लेकर आज यहां उपस्थित हुए। ब्रज के सभी तीर्थ में धरोहर सुरक्षित करने को सरकार लगी है। बांके बिहारी की प्रेरणा से लोक कल्याण के काम जारी रहे। इसके बाद मुख्यमंत्री ने 25 इलेक्ट्रिक बसों को भी यहां हरी झंडी दिखाई और मथुरा के लिए रवाना हो गए हैं।

वृंदावन में इलेक्ट्रिक बस सेवा का शुभारंभ करते सीएम योगी। 

अन्नपूर्णा यानि अन्न की कमी कभी नहीं

उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद द्वारा तैयार कराए गए इस वातानुकूलित भोजनालय में दिनभर में करीब पांच हजार यात्रियों को भोजन मिलेगा। इसके लिए रोटी से लेकर सब्जी, दाल, कढ़ी भी मशीनों से तैयार होंगी। एक मशीन से एक घंटे में तीन हजार रोटियां तैयार होंगी। एक दिन में भोजन की लागत करीब एक लाख रुपये आंकी गई है। वृंदावन में आने वाले देसी विदेशी श्रद्धालुओं के लिए यहां निशुल्क भाेजन की व्यवस्था रखी गयी है।

इस तरह होगा संचालन

उप्र ब्रज तीर्थ विकास परिषद ने पांच करोड़ रुपये की लागत से इसे तैयार किया है। अन्नपूर्णा भवन के नाम की ये दो मंजिला इमारत नगर निगम द्वारा उपलब्ध कराई गई जमीन पर बना है। भोजनालय का संचालन विश्व विख्यात रामकथा प्रवक्ता संत विजय कौशल महाराज के मंगलमय न्यास करेगा।

एक बार में 600 लोग कर सकते हैं भाेजन

भोजनालय के मेंटीनेंस इंचार्ज अजित सिंह ने बताया, पूरी तरह वातानुकूलित भोजनालय की रसोई में भोजन पूरी तरह मशीनों से ही तैयार होगा। रोटी मशीनों से बनेगी, इसके अलावा सब्जी के लिए भी कटिंग मशीन व आलू छीलने की मशीन, ग्रेवी बनाने की मशीन के अलावा दो बायलर भी रसोई में स्थापित किए गए हैं। इन बायलर में दाल, चावल, कढ़ी तैयार किए जाएंगे। भोजनालय में एक बार में छह सौ लोग कुर्सी मेज पर बैठकर भोजन कर सकेंगे।

ये रहेगा भोजन का समय

सुबह 11 से 2 बजे तक

शाम को 6 से 9 बजे तक

Edited By: Prateek Gupta