अनूसूचित जनजाति में शामिल नहीं करने पर 20 सितंबर से रेल चक्का जाम करेगा कुड़मी समुदाय

जासं, गोड्डा : टोटेमिक कुड़मी समाज का प्रतिनिधि मंडल शनिवार को दिनेश कुमार महतो के नेतृत्व में उपायुक्त जिशान कमर को ज्ञापन सौंपकर टोटेमिक कुड़मी समुदाय को अनुसूचित जनजाति की सूची में शामिल करने की मांग की। मौके पर दिनेश कुमार महतो ने बताया कि टोटेमिक कुड़मी जनजाति देश की आजादी से पहले प्रीमिटिव ट्राइब (आदिम जनजाति) में सूचीबद्ध था। 1950 में जब देश गणतंत्र हुआ। तब कुड़मी महतो जनजाति को छोड़कर सभी आदिम जनजाति को अनुसूचित जनजाति की सूची में सूचीबद्ध किया गया। इसे तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने संसद में सरकारी भूल सुधारने की बात कबूल की थी। तब से अबतक 72 वर्षों से लगातार यह जनजाति अनुसूचित जनजाति की सूची में सूचीबद्ध करने के लिए संघर्षरत है। यदि राज्य सरकार के माध्यम से केन्द्र सरकार यथाशीघ्र कुड़मी महतो समुदाय को अनुसूचित जनजाति की सूची में सूचीबद्ध करने की पहल नहीं करती है तो 20 सितंबर 2022 से पूरे झारखंड प्रदेश में अनिश्चितकालीन रेल चक्का जाम किया जाएगा। प्रतिनिधिमंडल में टोटेमिक कुडमी समाज के मालेश्वर महतो, गौतम कुमार महतो, दीपक कुमार महतो, मनीनाथ महतो, दशरथ महतो, मदन महतो, जवाहर महतो, अजय भारती, सुबोध महतो, पवन महतो, नीलकंठ महतो, मौसम राज महतो आदि लोग शामिल थे।

Edited By: Jagran