संवाद सहयोगी, किशनगंज : जदयू प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व विधायक कोचाधामन मुजाहिद आलम गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिल आठवीं बार महागठबंधन के नेता के रूप में मुख्यमंत्री बनने पर बधाई दिए। इस दौरान उन्होंने 9 अगस्त को पूर्णिया जिला के रौटा थाना अंतर्गत शीशाबाड़ी कर्बला के दौरान पुलिस एवं अखाड़े के लोगों के बीच हुए झड़प के कारण रौटा थाना कांड संख्या 111/22 बीडीओ बैसा द्वारा दर्ज किया गया है जिसमें 99 लोगों को नामजद एवं 4900 को अनामित बनाया गया। इसमें अधिकांश लोग निर्दोष होने की बात उन्होंने मुख्यमंत्री के समक्ष रखा और विवाद का कारण भी बताया। मामले में मुख्यमंत्री ने डीजीपी को मामले की जांच कर निर्दोष लोगों को बड़ी करने का निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश पर जदयू प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व विधायक कोचाधामन मुजाहिद आलम, पूर्व उप प्रमुख शमशाद आलम, उजैर आलम ने डीजीपी बिहार से मिलकर घटना के संबंध में जानकारी दिए। डीजीपी संजीव कुमार सिघल ने पूर्णिया पुलिस अधीक्षक दया शंकर को फोन कर मामले की जांच कर निर्दोष लोगों को बड़ी करने का निर्देश दिए। इसके अलावा खाड़ी पुल का निर्माण को पूर्ण कराने, रसैली घाट पुल निर्माण को पूर्ण कराने, खरखरी में महानंदा एवं डोक नदी में पुल निर्माण कराने जैसी समस्या को रखे। उक्त मामलों के निष्पादन हेतु मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव दीपक कुमार को निर्देशित किया है।

वहीं डेरामारी-मोजाबारी में अल्पसंख्यक आवासीय विद्यालय के एकेडमिक भवन एवं आवासीय भवन के बीच में किशनगंज-बहादुरगंज सड़क पर फुट ओवर ब्रिज का निर्माण। अल्पसंखयक आवासीय विद्यालय का उद्घाटन मुख्यमंत्री के हाथों करने हेतु आग्रह उन्होंने किया।

Edited By: Jagran