दान के खून से थैलीसीमिया पीड़ित बच्चों को मिल रहा जीवनदान : सीएस

जागरण संवाददाता, औरंगाबाद : सदर अस्पताल परिसर स्थित रेडक्रास भवन में शनिवार को ब्लड बैंक द्वारा थैलीसीमिया रोग पर जागरूकता शिविर आयोजित की गई। कार्यक्रम में करीब 30 थैलीसीमिया पीड़ित बच्चों को सम्मानित किया गया। सीएस ने बच्चों एवं उपस्थित अभिभावकों को प्रोत्साहित किया। कहा कि थैलीसीमिया बच्चों को माता-पिता से अनुवांशिक तौर पर मिलने वाला रोग है। इस रोग के होने पर शरीर में हीमोग्लोबिन निर्माण प्रक्रिया में गड़बड़ी होती है जिससे रक्तक्षीणता के लक्षण प्रकट होते हैं। इसकी पहचान तीन माह की आयु के बाद ही होती है। सीएस ने कहा कि ब्लड बैंक में ब्लड की कमी नहीं है। पीड़ित बच्चों को आवश्यकतानुसार निशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है। ब्लड बैंक में दान का खून है। दान के खून से पीड़ित बच्चों को जीवनदान मिल रहा है। अभिभावकों से उनकी समस्याएं पूछी। अभिभावकों ने इलाज एवं ब्लड चढ़ाने में हो रही समस्याओं से अवगत कराया। अधिकारियों को समस्या समाधान करने का निर्देश दिया। कहा कि थैलेसीमिया बच्चों को इलाज एवं ब्लड चढ़ाने में किसी प्रकार की समस्या नहीं होगी। एसीएमओ डा. किशोर कुमार, जिला संचारी रोग पदाधिकारी सह ब्लड बैंक प्रभारी डा. रविरंजन, जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डा. मिथलेश प्रसाद सिंह, जिला गैर संचारी रोग पदाधिकारी डा. कुमार महेंद्र प्रताप, जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम डा. कुमार मनोज, ब्लड बैंक के चिकित्सक डा. सचिन किशोर, रेडक्रास के अध्यक्ष सतीश कुमार सिंह, सचिव दीपक कुमार, उपाध्यक्ष मरगूब आलम, कोषाध्यक्ष शिव गुप्ता, मनोवैज्ञानिक सौम्या ऋचा, एलटी आशुतोष रंजन, केएन शुक्ला उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran