बलिदान दिवस में शामिल होंगे सीएम योगी

जागरण संवाददाता, बलिया : अगस्त क्रांति 1942 में बलिया अकेला था, जहां के क्रांतिकारियों ने 19 अगस्त को जिले को आजाद घोषित कर अपनी सरकार बना ली थी। इस दिवस को बलिया बलिदान दिवस के रूप में मनाया जाता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी कार्यक्रम में शामिल होंगे। उनके आगमन की सूचना मिलते ही जिला प्रशासन तैयारी में जुट गया है। शहर को सजाने की तैयारी है। परिवहन मंत्री दयाशंकर सिंह ने प्रेस वार्ता में कार्यक्रम की जानकारी दी। बताया कि मुख्यमंत्री सुबह में नौ बजे आएंगे। जिला कारागार के कार्यक्रम में भाग लेने के बाद जनसभा को संबोधित करेंगे। सभा स्थल के चयन की जिम्मेदारी जिला प्रशासन को दी गई है।

इसलिए खास है 19 अगस्त

यह वही दिन है जिस दिन जिले के लाखों लोगों ने जेल में बंद क्रांतिकारियों को बाहर निकालने के लिए जिला कारागार पर हमला बोला था। सभी क्रांतिकारी जेल से बाहर आए थे। उसी समय से हर साल 19 अगस्त को जेल का फाटक खोला जाता है और प्रतीकात्मक रूप से स्वतंत्रता संग्राम सेनानी व अन्य लोग जिला कारागार के अंदर जाकर बाहर आते हैं।

कार्यक्रम को लेकर अफसरों को मिली ये जिम्मेदारी

हैलीपैड स्थल जिला कारागार, कलेक्ट्रेट के आसपास की साफ-सफाई, सड़क मरम्मत कराने की जिम्मेदारी एडीएम राजेश कुमार सिंह को सौंपी।

शहीद पार्क एवं स्मारक की साफ-सफाई, मरम्मत, रंगाई-पोताई तथा साज-सज्जा की जिम्मेदारी मुख्य राजस्व अधिकारी अनिल कुमार अग्निहोत्री को।

कलेक्ट्रेट से फ्लाईओवर होते हुए चित्तू पांडेय चौराहे तक के रास्ते की साफ-सफाई कराने की जिम्मेदारी डिप्टी कलेक्टर अरूण कुमार को।

चित्तू पांडेय स्मारक स्थल एवं फ्लाई ओवर के नीचे आसपास की साफ-सफाई, मूर्ति की पेंटिंग, साज-सज्जा एवं आजादी के अमृत महोत्सव से संबंधित पेंटिंग, स्लोगन आदि लिखवाने की जिम्मेदारी उप जिला मजिस्ट्रेट जुनैद अहमद को।

चित्तू पांडेय चौक से शहीद पार्क तक संबंधित सड़क व टाउन हाल परिसर की साफ-सफाई कराने की जिम्मेदारी डिप्टी कलेक्टर अनवर रशिद फारूकी को।

गंगा बहुउद्देशीय सभागार की साफ-सफाई, मरम्मत, साज-सज्जा आदि की जिम्मेदारी नगर मजिस्ट्रेट प्रदीप कुमार को दी गई है।

नगर क्षेत्र की प्रतिमाओं एवं सड़कों की साफ-सफाई, मरम्मत व रंगाई-पोताई की जिम्मेदारी डिप्टी कलेक्टर सीमा पांडेय को दी गई है।

Edited By: Jagran