जागरण संवाददाता, गुरुग्राम: मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने मंगलवार को गुरुग्राम के पटवारियों तथा कानूनगो को ई-गवर्नेंस के अंतर्गत 67 टैबलेट वितरित किए। यह कार्यक्रम सिविल लाइन स्थित लोक निर्माण विश्राम गृह में आयोजित किया गया। इस अवसर पर उन्होंने पटवारियों को सावधानी से काम करने की सलाह दी। कहा कि यदि ठीक से काम नहीं करोगे तो कंप्यूटर का जो जाल बिछा है उसमें गलतियां पकड़ी जाएंगी। समय के साथ तकनीक में बदलाव हो रहा है ऐसे में पटवारियों को टैबलेट मिलने से उनका काम पहले की अपेक्षा सुविधाजनक होगा और गलतियों की संभावना भी कम रहेगी। राजस्व रिकार्ड का रखरखाव भी ठीक से हो सकेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में मेरी फसल-मेरा ब्यौरा योजना के अंतर्गत 85 लाख एकड़ भूमि पंजीकृत है। किसानों को स्वयं द्वारा अपने खेत में बोई गई फसल की जानकारी देनी होती है। इतना ही नहीं, प्रदेश में हर परिवार का डाटा तैयार किया जा रहा है इसमें व्यक्ति के आयु, जाति, आय आदि का विवरण होता है। इसी आधार पर उसे सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है। मुख्यमंत्री ने बताया कि पिछले दिनों प्रदेश विधानसभा को भी ई-विधानसभा कर दिया गया है। इससे कागज की बचत होने के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण भी होगा। उन्होंने पटवारियों तथा राजस्व अधिकारियों से राजस्व रिकार्ड को बेहतर करने के विषय में विचार-विमर्श भी किया।

इस अवसर पर जिला उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने कहा कि टैबलेट से समय की बचत होगी और अक्षांश और देशांतर के विवरण के साथ वास्तविक स्थिति के आधार पर रिपोर्ट तैयार होगी। इस अवसर पर कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के सुरक्षा सलाहकार अनिल कुमार राव, मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार अमित आर्य, एसडीएम अंकिता चौधरी, डीआरओ मनबीर सिंह, तहसीलदार दर्पण कंबोज और अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran