पूजा-अर्चना के साथ मां वाराही धाम में हुआ चंद्रायण महोत्सव

संवाद सहयोगी, लोहाघाट : मां वाराही धाम देवीधुरा में रविवार को पूजा-अर्चना के साथ चाद्रायण महोत्सव का आयोजन किया गया। जिसमें चार खाम, सात थोकों के मुखियाओं ने प्रतिभाग किया। प्राचीन काल से चली आ रही परंपरा के अनुसार मां वाराही धाम स्थित प्राकृतिक जल स्रोत में सफाई की गई। पंचगव्य का स्नान कराने के बाद जलाशय के पास रुद्राभिषेक का पाठ किया गया। मुचकुंद ऋषि आश्रम में जाकर मां वाराही परिवार के समस्त देवी देवताओं और नन्दा पर्वत पर विराजमान एक हजार आठ देवियों का आह्वान किया गया। मंदिर के पीठाचार्य कीर्ति बल्लभ शास्त्री ने पूजा.अर्चना संपन्न कराई। मां वाराही मंदिर में भोग लगाकर प्रसाद वितरित किया गया। चार खाम सात थोकों के लोगों ने मां वाराही से विश्व, देश, राज्य और क्षेत्र घर परिवार की खुशहाली की कामना की। इस दौरान मंदिर समिति के अध्यक्ष खीम सिंह लमगडिय़ा, भुवन चंद्र जोशी, गहड़वाल खाम के त्रिलोक सिंह बिष्ट, वालिक खाम के बद्री सिंह बिष्ट, लमगडिय़ा खाम के वीरेंद्र सिंह लमगडिय़ा, चम्याल खाम के गंगा सिंह चम्याल, दीपक सिंह बिष्ट आदि लोग मौजूद रहे। ========= देवीधुरा के बग्वाल मेले में सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम लोहाघाट : देवीधुरा के बगवाल मेले में सांस्कृतिक संध्या में देर रात तक कार्यक्रमों की धूम मची रही। खटीमा और हल्द्वानी के कलाकारों ने एक से बढ़कर एक सांस्कृतिक कार्यक्रमों की मन मोहक प्रस्तुति दी। शुभारंभ कलाकारों ने वाराही मां की स्तुति के साथ किया। कलाकारों ने कुमाऊंनी, गढ़वाली, राजस्थानी, पंजाबी गीतों की मन मोहक प्रस्तुति दी। दर्शकों ने तालियों से कलाकारों का उत्साह वर्धन किया। महोत्सव समिति के अध्यक्ष खीम सिंह लमगडिय़ा ने अतिथियों का स्वागत किया। इस दौरान भुवन चंद्र जोशी, कीर्ति बल्लभ जोशी, विनोद गड़कोटी, दीपक बिष्ट, मोहन सिंह, दिवान सिंह शामिल रहे।

Edited By: Jagran