Online Gaming Career: तेजी से बढ़ते बाजार के कारण आनलाइन गेमिंग कंपनियों और स्टार्टअप्स में युवाओं के लिए संभावनाएं लगातार बढ़ रही हैं। इसमें रुचि रखने वाले युवा आवश्यक कौशल सीख कर पहचान और पैसा दोनों बना सकते हैं...

वीडियो गेम या आनलाइन गेम में बच्‍चों, किशोरों और युवाओं की बढ़ती दिलचस्‍पी को देखते हुए देश में इसका बाजार भी लगातार और तेजी से बढ़ रहा है। आल इंडिया गेमिंग फेडरेशन (एआइजीएफ) के अनुसार, भारत में आनलाइन गेमिंग का बाजार 28 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है, जिसका कुल कारोबार 2027 तक 5 अरब डालर तक पहुंचने की उम्‍मीद है। जाहिर है इस बढ़ते क्षेत्र में युवाओं के लिए गेमिंग कंपनियों और इससे जुड़े स्‍टार्टअप्‍स में विभिन्‍न रूपों में रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ रही हैं। यदि आप इस क्षेत्र में रुचि रखते हैं, तो गेम डेवलप करने की कला सीखकर इस क्षेत्र में बेहतर करियर बना सकते हैं।

हाइलाइट्स

- 2.6 अरब डालर के लगभग है भारत में आनलाइन गेमिंग का कुल कारोबार।

-140 अरब डालर तक पहुंचने ही उम्‍मीद है भारत में आनलाइन गेमिंग के इस कारोबार के 2027 तक।

(स्‍टैटिस्‍टा के अनुसार)

-50 करोड़ से अधिक लोग आनलाइन गेम खेल रहे हैं इस समय भारत में।

आनलाइन गेम सिर्फ पुरुष ही नहीं, 40 से 45 प्रतिशत महिलाएं भी खेल रही हैं। अगर संख्‍या की बात करें, तो देशभर में इस समय करीब 50 करोड़ लोग आनलाइन गेम खेलते हैं। इससे गेमिंग का यह कारोबार बहुत तेजी से बढ़ रहा है। गेम खेलने वाले खिलाडि़यों की इतनी बड़ी तादाद को देखते हुए ही सरकार गेमिंग कंपनियों के नियमन के लिए एक संगठन बनाने की तैयारी कर रही है, जो गेम के नियमों और उसकी गुणवत्ता पर नजर रखेगी। चूंकि यह गेम डिजिटल इकोनामी का हिस्‍सा बन चुकी है, इसलिए केंद्र सरकार भी आनलाइन गेमिंग से जुड़े स्‍टार्टअप्‍स को प्रोत्‍साहित करने के साथ-साथ इस कारोबार में निवेश को बढ़ाने पर जोर दे रही है। माना जा रहा है कि 5जी और मेटावर्स तकनीक से गेमिंग की दुनिया में और बड़ा बदलाव आएगा। खासतौर से इस आनलाइन गेमिंग को लेकर जुनून और मनोरंजन में इसकी भागीदारी दोनों में यह बदलाव आने की उम्‍मीद है। इससे करियर के लिहाजा से यह भविष्‍य में भी एक ग्रोइंग फील्‍ड रहने वाला है, जहां गेम डेवलपमेंट, गेम डिजाइनिंग, गेमिंग प्रोग्रामिंग की काफी डिमांड होगी।

बढ़ती करियर संभावनाएं : भारत में अभी आनलाइन गेमिंग का कुल बाजार 2.6 अरब डालर के लगभग है, जिसके 2027 तक बढ़कर 8.6 अरब डालर तक हो जाने की उम्‍मीद है। इतना ही नहीं, आनलाइन गेमिंग के बाद क्‍लाउड गेमिंग और मेटावर्स तकनीक वाले गेम्‍स की भी चर्चाएं होने लगी हैं। ढेर सारे एआइ आधारित गेम्‍स आ गए हैं। देश की तमाम गेमिंग कंपनियां समय के साथ लगातार एक से बढ़कर एक क्रिएटिव गेम्स का निर्माण कर रही हैं। इसलिए देश में अब यह एक इंडस्‍ट्री का रूप ले चुका है। गेम्स में टेक्नोलाजी एवं कलात्मकता दोनों की बहुत पूछ है। ऐसे में जिन्हें कलात्मक चीजें करना, बनाना पसंद है, वे बड़ी आसानी से गेमिंग इंडस्ट्री का हिस्सा बन सकते हैं। यहां गेम डिजाइनर एवं डेवलपर के रूप में करियर की संभावनाएं बहुत अच्‍छी रहने वाली हैं। ‘टीमलीज डिजिटल’ की एक रिपोर्ट की मानें, तो आगामी एक साल में यह क्षेत्र 20 से 30 प्रतिशत की दर से बढ़ने वाला है।

नौकरियों के विविध मौके : गेमिंग से अच्‍छी कमाई के साथ-साथ यहां अनेक रूपों में करियर के विकल्‍प मौजूद होने के कारण ही आजकल बड़ी संख्‍या में युवा इस क्षेत्र में दिलचस्‍पी दिखा रहे हैं। गेमिंग इंडस्ट्री में समुचित कोर्स करके आने वालों के लिए यहां नौकरी की कमी नहीं है। गेम डिजाइनिंग, गेम प्रोग्रामिंग आदि में अपनी कुशलता विकसित करके युवा गेम प्रकाशक, गेम उत्पादन कंपनियों के अलावा स्टूडियो, शिक्षण संस्थानों, विपणन और विज्ञापन एजेंसियों, मोबाइल फोन कंपनियों, डिजाइन कंपनियों में अपने लिए नौकरी तलाश सकते हैं।

डिजाइनर एवं डेवलपर के अलावा इससे जुड़े दूसरे क्षेत्रों में भी जैसे कि एनिमेटर, आडियो प्रोग्रामर, साउंड इंजीनियर, गेम टेस्टिंग इंजीनियर्स, क्वालिटी एश्योरेंस लीड, वर्चुअल रियलिटी डिजाइनर, वीएफएक्स आर्टिस्ट, वेब एनालिस्ट के तौर पर भी कार्य कर सकते हैं। सबसे अच्‍छी बात है कि यहां आप फुलटाइम या पार्टटाइम दोनों तरह करियर आजमा सकते हैं। इसके अलावा, पिछले कुछ वर्षों में युवाओं द्वारा आनलाइन गेमिंग को फुलटाइम करियर के रूप में देखने के कारण तमाम आनलाइन गेमिंग कंपनियां गेम खेलने वाले खिलाडि़यों को ट्रेनिंग दे रही हैं। इस तरह की ट्रेनिंग लेकर आप भी ई-स्‍पोर्ट्स खिलाड़ी के रूप में एक नये तरह का करियर बना सकते हैं।

कोर्स एवं शैक्षिक योग्यता : गेमिंग के क्षेत्र में डिजाइनर बनने के लिए साइंस स्ट्रीम के साथ 12वीं होना चाहिए। साथ ही इसके लिए कंप्यूटर और साफ्टवेयर की ठीकठाक जानकारी भी होनी चाहिए। जानकारों की मानें, तो गेमिंग इंडस्ट्री में कंप्यूटर साइंस, गेम डिजाइनिंग, गेम डेवलपिंग, कंप्यूटर ग्राफिक्स, आर्ट, एनिमेशन, इलस्ट्रेशन जैसे कोर्स की पढ़ाई करने वालों के लिए जाब्‍स के सबसे अधिक अवसर हैं। देश में कई संस्थान इसके लिए गेम डिजाइनिंग में डिप्लोमा, स्नातक एवं परास्नातक जैसे कोर्स भी संचालित कर रहे हैं। कुछ संस्‍थान एआइ एवं गेमिफिकेशन में बीएससी जैसे कोर्स भी आफर कर रहे हैं।

प्रमुख संस्थान

एमआइटी इंस्टीट्यूट आफ डिजाइन, पुणे

www.mitid.edu.in

सेंट पाल्स कालेज, बेंगलुरु

https://blr.stpaulscollege.edu.in

लवली प्रोफेशनल यूनिवर्सिटी, जालंधर

www.lpu.in

वीईएलएस यूनिवर्सिटी, चेन्नई

www.velsuniv.ac.in

रुचि रखने वालों के लिए बढ़ रहे अवसर

स्मार्टफोन के उपयोग से गेमिंग उद्योग बहुत तेजी से बढ़ रहा है, क्‍योंकि आजकल ज्यादातर गेम मोबाइल पर ही खेले जाते हैं। नई-नई तकनीक और किफायती इंटरनेट की उपलब्धता ने भी इस बाजार को बढ़ावा दिया है। इससे लोग कहीं बाहर जाने के बजाय घर पर ही आनलाइन गेमिंग का खूब आनंद ले रहे हैं। जाहिर है जब इसकी मांग इतनी बढ़ रही है, तो इस इंडस्‍ट्री में रुचि रखने वालों के लिए करियर के अवसर भी बढ़ रहे हैं। यहां अपनी योग्‍यतानुसार डाटा विश्लेषक, गेम डेवलपर्स, वेब डेवलपर या ग्राहक सहायता विशेषज्ञ के रूप में करियर बना सकते हैं।

वि‍वेक कुमार सिंह

डायरेक्‍टर, करियरएरा

दृढ़ता के साथ बढ़ें आगे

देश में आनलाइन गेमिंग आज एक नई ऊंचाई पर पहुंच चुका है, जहां युवा पीढ़ी के लिए प्‍लेयर बनने के साथ-साथ कई अन्य रूपों में भी करियर विकल्‍प हैं। लेकिन यह समझना होगा कि यह भी अन्य खेलों की तरह ही एक खेल है। ऐसे में जो लंबे समय तक इस बढ़ती इंडस्‍ट्री में एक स्थायी करियर बनाना चाह रहे हैं, उन्‍हें मेहनत के साथ-साथ फोकस्‍ड रहना होगा। अगर कभी हार न मानने वाले हैं, तो अपनी दृढ़ता से, कड़ी मेहनत से, अपने जुनून से निश्चित रूप से यहां चमकदार करियर बना सकते हैं।

सारांश जैन

गेमर/साउथ एशिया फीफा चैंपियन

Edited By: Nandini Dubey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट