20 और 22 सितंबर को दो पालियों में होगी बीपीएससी 67वीं पीटी

पटना । बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा सहित आगामी परीक्षाओं को लेकर आवश्यक कई बदलाव किए है। साथ ही 67वीं पीटी 20 एवं 22 सितंबर को आयोजित होगी। आयोग के सभाकक्ष में आयोजित संवाददाता संम्मेलन को संबोधित करते हुए बीपीएससी के चेयरमैन अतुल प्रसाद ने बताया कि परीक्षा 20 सितंबर और 22 सितंबर को दो पालियों में होगी। इसमें छह लाख दो हजार से अधिक परीक्षार्थी शामिल होंगे तथा मार्क्स परसेंटाइल के आधार पर दिए जाएंगे। बीते आठ मई को पेपर लीक होने के कारण यह परीक्षा रद कर दी गई थी। नई व्यवस्था के तहत अब परीक्षा हाल में ही प्रश्नपत्र व ओएमआर शीट खुलेंगी। चेयरमैन ने अभ्यर्थियों से अपील की है कि वे परीक्षा समाप्ति के बाद अपनी निगरानी में इसे सील कराएं। परीक्षार्थियों को परीक्षा आरंभ होने से एक घंटा पहले तक ही परीक्षा हाल में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। प्रवेश के बाद अभ्यर्थियों की बायोमिट्रिक उपस्थिति, आइरिस स्कैन, फोटोग्राफी की प्रक्रिया होगी। परीक्षा को लेकर सभी परीक्षा केंद्रों पर जैमर लगा रहेगा। परीक्षा प्रारंभ होने से पांच मिनट पहले परीक्षा हाल में सील कंडीशन में आएगा। ------------- हर सेंटर के लिए अलग होगा प्रश्न चेयरमैन ने बताया कि अब प्रश्न पत्र के सुरक्षा मानकों में व्यापक बदलाव हुआ है। इसके तहत अब हर सेंटर के लिए अलग प्रश्न पत्र रहेगा। इससे प्रश्न लीक होने पर भी जानकारी हो सकेगी कि किस सेंटर से प्रश्न लीक किए गए है। उन्होंने बताया कि हर परीक्षा केंद्रों के लिए स्पेशल रूप से एक-एक ट्रंक में अतिरिक्त लाक के साथ प्रश्नपत्र भेजा जाएगा। इस लाक में भी एक विशेष तकनीक का उपयोग किया जा रहा है कि जहां भी इसे खोला जाएगा या खोलने की कोशिश होगी, तुरंत बीपीएससी के कंट्रोल रूम को सूचना मिल जाएगा। ----------- चुनिंदा शहरों में आयोजित होगी परीक्षा आयोग के चेयरमैन ने बताया कि अब परीक्षा राज्य के सभी जिलों में नहीं आयोजित किए जाएंगे। परीक्षा अब चुनिंदा शहरों में ही आयोजित की जाएगी। छोटे जिले के बजाय बड़े जिलों को प्राथमिकता दी जाएगी। ---------- अभ्यर्थियों को उपलब्ध कराएं जाएंगे ओएमआर शीट चेयरमैन अतुल प्रसाद ने बताया कि आयोग अब परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थियों को बगैर किसी प्रक्रिया के ही मूल्यांकन के पहले तथा मूल्यांकन के बाद वाली आंसर-शीट (ओएमआर) उपलब्ध कराएगा। इसके लिए हाइ स्कैनर मशीन के सहारे परीक्षार्थियों की लागिंग में ही अपलोड कर दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि अब तक इसके लिए अभ्यर्थियों को सूचना के अधिकार का सहारा लेना पड़ता था। ------ रिजल्ट जारी होने से पहले होगी कई प्रक्रिया चेयरमैन ने बताया कि अब रिजल्ट जारी होने से पहले कई प्रक्रिया होगी। इसमें सबसे पहले साफ्टवेयर का रैंडम चेकअप होगा। इसके बाद सफल होने वाले सभी अभ्यर्थियों की आवेदन से लेकर पीटी, मेंस व साक्षात्कार का डाटा वेरीफाइ किया जाएगा। इसमें उनकी उत्तरपुस्तिका को भी देखा जाएगा। इसमें किसी प्रक्रिया की गड़बड़ियां पाएं जाने पर रिजल्ट तुरंत रोक दिया जाएगा। ----------- खाली सीटों पर होगा साक्षात्कार आयोग के चेयरमैन ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के आलोक में लोहार जाति को अनुसूचित जनजाति से हटा कर अत्यंत पिछड़ा वर्ग की कैटगरी में रखा गया है। इसके कारण से कंप्यूटर साइंस सहायक शिक्षक की कुछ पोस्ट अनुसूचित जनजाति कैटगरी में खाली रह गई है। अब इसमें संबंधित कैटगरी के अभ्यर्थियों के कटआफ में आवश्यक बदलाव को देखते हुए पद से तीन गुणा अधिक अभ्यर्थियों को साक्षात्कार में बुलाकर परिणाम घोषित किया जाएगा। ----- प्रमुख परीक्षाओं की संभावित तिथि - बीपीएससी 67वीं प्रारंभिक परीक्षा- 20 और 22 सितंबर - सहायक अभियंता असैनिक लिखित वस्तुनिष्ठ परीक्षा 13 और 14 अक्टूबर - सहायक अभियंता असैनिक लिखित वस्तुनिष्ठ परीक्षा 10-11 अक्टूबर - सहायक अभियंता यांत्रिक लिखित वस्तुनिष्ठ 13-14 अक्टूबर - सहायक अभियंता विद्युत लिखित वस्तुनिष्ठ परीक्षा 13-14 अक्टूबर - बाल विकास परियोजना पदाधिकारी (सीडीपीओ) मुख्य लिखित प्रतियोगिता परीक्षा 18-20 अक्टूबर - सहायक अंकेक्षण अधिकारी पीटी 20 अगस्त एवं मुख्य परीक्षा पांच-सात नंवंबर। - सहायक नगर योजना पर्यवेक्षक लिखित परीक्षा 19-20 नवंबर - राजकीय पालिटेक्निक व महिला पालिटेक्निक में व्याख्याता लिखित प्रतियोगिता परीक्षा 27 सितंबर से 22 अक्टूबर - राजकीय अभियंत्रण महाविद्यालय में सहायक प्राध्यापक लिखित परीक्षा 16 अक्टूबर - परियोजना प्रबंधक मुख्य लिखित प्रतियोगिता परीक्षा 19- 21 अक्टूबर - अंकेक्षक (बिहार पंचायत अंकेक्षण सेवा ) की परीक्षा दो-चार नवंबर - सहायक लोक स्वच्छता एवं अपशिष्ट प्रबंधन पदाधिकारी लिखित प्रतियोगिता 12-13 नवंबर।

Edited By: Jagran