फर्जी वरासत से हकदार बन जमीन का कर दिया बैनामा

संवाद सहयोगी, तिर्वा : फर्जी दस्तावेज तैयार कर कीमती जमीन की वरासत आरोपितों ने अपने नाम दर्ज कराई। इसके बाद चंद दिनों में ही जमीन की बिक्री तीसरे व्यक्ति के नाम कर दी। जानकारी होने पर ग्रामीणों तहसील में प्रदर्शन किया और एसडीएम को घेरा। एसडीएम ने तहसीलदार से जांच रिपोर्ट मांगी है।

मंगलवार को तहसील में हसेरन ब्लाक के नैनपुर गांव निवासी शिव सिंह, श्याम सिंह, रामप्रकाश सिंह व अनुरुद्ध सिंह पुत्र रामसनेही ने ग्रामीणों के साथ प्रदर्शन किया। शिव सिंह ने बताया कि परिवार के पुर्वादानी गांव निवासी स्व. सियाराम पुत्र बद्री की जमीन की फर्जी वरासत गांव के कुछ लोगों ने अपने नाम दर्ज करा ली। जबकि सियाराम की न तो शादी हुई थी और न ही कोई बहन थी। इससे उनकी जमीन की वरासत चारों भाइयों के नाम दर्ज होनी थी। आरोपितों ने फर्जी अभिलेखों को बनाया और उनमें कई तथ्यों को छिपा लिया गया। अभिलेखों को तैयार कराने व वरासत में लेखपाल व एक जनप्रतिनिधि ने पूरा काम किया। आरोपितों के नाम वरासत दर्ज होने के कुछ दिनों बाद ही तीसरे व्यक्ति के नाम जमीन का बैनामा कर दिया गया। ग्रामीणों ने बताया कि गांव के ऐसे मामले करीब सात लोगों के साथ किए जा चुके हैं। उसमें पूरा खेल राजस्व कर्मी कराते हैं। ग्रामीणों ने एसडीएम गरिमा सिंह को घेरा और प्रदर्शन कर नाराजगी जताई। एसडीएम ने तहसीलदार से जांच रिपोर्ट मांगी है। एसडीएम ने बताया कि जांच रिपोर्ट के आधार पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran