पूर्व फौजियों ने शहीद स्थल पर फहराया तिरंगा

जागरण संवाददाता, महोबा : भारत और पाकिस्तान के बीच 1965 व 1971 में हुए युद्ध में सेना का प्रतिनिधित्व कर चुके 87 वर्षीय पूर्व सैनिक राम नारायण मिश्र और कारगिल युद्ध में शामिल रहे कमांडो रवींद्र सिंह व उनके पूर्व फौजी साथियों ने हवेली दरवाजा शहीद स्थल पर पहुंच कर तिरंगा फहराया।

1857 के प्रथम स्वाधीनता संग्राम के दौरान अंग्रेजी हुकूमत ने यहां फांसी पर लटकाए गए 16 क्रांतिकारियों को भावभीनी श्रद्धांजलि दी। बुंदेली समाज की अगुवाई में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व फौजियों ने अतिक्रमण के शिकार शहीद स्थल की बदहाली पर प्रशासन को आड़े हाथों लिया एवं कहा कि जिस तरह पूरे इलाके का कूड़ा यहां फेंका जाता है, वह देश के लिए अपना सब कुछ न्यौछावर कर देने वाले क्रांतिकारियों का अपमान है। संयोजक ने शहीद स्मारक निर्माण के लिए सात वर्षों से चल रहे अपने संघर्ष के बारे में बताया एवं अब तक स्मारक न बन पाने पर चिंता प्रकट की। महामंत्री डा. अजय बरसैया, अरुण चतुर्वेदी, भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री संदीप शुक्ला, देवेंद्र तिवारी, प्रदीप शुक्ला आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran