गाजीपुर, जागरण संवाददाता। सांसद अफजाल अंसारी के खिलाफ शासन- प्रशासन अब कड़ी कार्रवाई के मूड में है। ईडी की 15 घंटे तक छापेमारी के बाद शुक्रवार को पुलिस- प्रशासन ने माचा गांव पहुंचकर सांसद की तीनों बेटियों के नाम खरीदी गई 24 बीघे जमीन पर बना फार्म हाउस की कुर्की की। जिसकी लागत 12.37 करोड़ रुपये है। अब तक सांसद की करीब 27 करोड़ की संपत्ति कुर्क हो चुकी है। इससे अफजाल के करीबियों में खलबली मची हुई है।

यह जमीन वर्ष 2009-10 बिहार कैमूर जिले के जमरूढ़पुर निवासी के श्रीनिवास सिंह व उनके पुत्रों कमला सिंह, त्रिविक्रम सिंह निवासी अफजाल की पत्नी फरहत अंसारी के नाम बैनामा हुआ था। इसके बाद पत्नी फरहत अंसारी ने 22 मार्च 2017 अपनी तीन बेटियों नूसरत, मारिया व नूरिया अंसारी के नाम से दान किया। यह जमीन 1.370 हेक्टेयर है।

इस जमीन पर फार्म हाउस बना हुआ है, जिसमें चहारदीवारी, दो मंजिला मकान, टीन शेड आदि बना हुआ है। जिलाधिकारी मंगला प्रसाद सिंह के आदेश पर शुक्रवार एसपी ग्रामीण आरडी चौरसिया व तहसीलदार विजय प्रताप सिंह ने पुलिस बल की मौजूदगी में जमीन कुर्क करने की कार्रवाई की। बाजार में कीमत 12.37 करोड़ है। कुर्की की कार्रवाई के लिए कई थानों की फोर्स तैनात रही। इससे पहले पुलिस-प्रशासन ने माचा, धनेठा, खड़हिया आदि गांवों में भी करीब 15 करोड़ की संपत्ति कुर्क किया था।

एक दिन पहले ईडी ने सांसद अफजाल अंसारी के आवास सहित मुख्तार के तीन करीबियों गणेश मिश्रा, विक्रम अग्रहरि व खान बस के मालिक के यहां भी छापा मारा था। ईडी की टीम ने अर्धसैनिक बलों की निगरानी में सांसद के आवास पर 15 घंटे तक जांच की। इस दौरान काफी कुछ सुबूत प्रवर्तन निदेशालय के हाथ लगा है, जिसे ईडी अपने साथ ले गई है। इसके आधार पर ईडी शिकंजा सकेगी। ईडी की कार्रवाई के बाद से ही समर्थकों में खलबली मची हुई है।

Edited By: Abhishek Sharma