जागरण संवाददाता, पठानकोट: सरकारी आइटीआइ कालेज पठानकोट में स्वतंत्रता दिवस के 75वें अमृत महोत्सव को समर्पित कार्यक्रम करवाया गया। प्रिसिपल हरीश मोहन ने बताया कि देश की स्वतंत्रता के लिए लाखों देशवासियों ने कुर्बानियां दी हैं। उन्होंने कहा कि उनकी कुर्बानियों के सदके ही हम आज स्वतंत्र भारत में सांस ले रहे हैं। हमें उन सभी देश के प्रति प्राण निछावर करने वाले स्वतंत्रता सेनानियों को याद रखना चाहिए तथा आने वाली पीढ़ी को उन स्वतंत्रता सैनानियों द्वारा दिए गए बलिदानों की गाथा बतानी चाहिए।

इस अवसर पर विशेष रूप से पहुंचे सरदार कश्मीर सिंह ने 1947 के देश के बंटवारे के भयानक दौर की यादों को उपस्थिति के साथ साझा किया। विशेष तौर पर अपने संस्मरण साझा करते हुए कारगिल युद्ध के नायक संतोष सिंह ने उपस्थिति को सैनिकों के बलिदान की गाथा सुनाई। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता को हासिल करने के लिए देश ने काफी भारी मूल्य चुकाया है, लेकिन स्वतंत्रता को बरकरार रखने के लिए उससे भी भारी कुर्बानियों की जरूरत होती है। इस अवसर पर शिक्षक स्टाफ सहित सुमित, सक्षम, जॉनसन, सोनाली, अनमोल, अंजना, सिकंदर, प्रणव महाजन इत्यादि भी उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran