मोहित गिल्होत्रा, फाजिल्का : भले ही बकाया पैसे जारी न होने के चलते पिछले चार माह से प्राइवेट अस्पतालों में आयुष्मान योजना के तहत इलाज बंद है, लेकिन सरकारी अस्पतालों में इस योजना के तहत लगातार लाभ दिया जा रहा है, जिसके तहत पिछले चार माह में जिले के 1,954 के करीब लोग सरकारी अस्पतालों से इस योजना के तहत लाभ ले चुके हैं। इनमें से विभिन्न बीमारियों से ग्रसित 1454 लोगों ने योजना के तहत लाभ पाया, जबकि 389 गर्भवती महिलाओं ने इस योजना के तहत निश्शुल्क इलाज लिया। जिले में अप्रैल से लेकर अगस्त तक 4,712 लोगों के नए कार्ड बनाए गए। इस योजना के तहत अब तक 87 प्रतिशत लोगों के कार्ड बनाए जा चुके हैं, जबकि यह कार्य भी लगातार जारी है। फाजिल्का के सरकारी अस्पताल में आयुष्मान योजना के तहत किसी भी तरह की जानकारी लेने के लिए पर्ची काउंटर के साथ वाले कमरे में हैल्प डेस्क लगाया गया है, जबकि कार्ड बनवाने के बाद व्यक्ति 1396 तरह की बीमारियों में से किसी का भी ईलाज करवा सकता है।

इस अस्पतालों में सेहत केंद्रों में मिल रहा इलाज

आयुष्मान योजना के तहत लोग सरकारी अस्पताल फाजिल्का, सरकारी अस्पताल अबोहर, सीएचसी जलालाबाद, सीएचसी खुईखेड़ा, सीएचसी डबवाला कलां, सीएचसी सीतेगुणों में पहुंचकर अपना ईलाज करवा सकते हैं। चार माह में मरीजों ने लिया लाभ

डिलिवरी: 389

लैपरोक्सी के जरिए आपरेशन: 08

टीकेआर: 85

डायलिसिस: 151

अन्य बीमारियां: 1462

---

इन कैटागिरी के इतने प्रतिशत बन चुके कार्ड

कैटागिरी बने पेंडिग

राशन होल्डर 75.5 24.5

किसान 65.2 34.8

निर्माण मजदूर 10.7 89.3

छोटे व्यापारी 63.7 36.3

पत्रकार 100 00

एसईसीसी 55.9 44.1

कुल 69.3 30.7

----

योजना के तहत बने कार्ड

1. एसईसीसी परिवार: 59,052, कितने बने: 33,013, पेंडिग: 26,039

2. नीले कार्ड धारक: 3,70,663, कितने बने: 2,79,996, पेंडिग: 90,667

3. निर्माण मजदूर: 22,541, कितने बने: 2,425, पेंडिग: 20,116

4. जे फार्म वाले किसान: 46,637, कितने बने: 30,411, पेंडिग: 25,253

5. छोटे व्यापारी: 1,662 कितने बने: 1059, पेंडिग: 603

6. पत्रकार: 106, कितने बने: 106, पेंडिग: 00

Edited By: Jagran

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट