नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव का दौर जारी है। वैश्विक बाजारों में सकारात्मक रुख और विदेशी फंडों के फ्लो के कारण इक्विटी बेंचमार्क ने गुरुवार को मजबूती के साथ कारोबार की शुरुआत की, जिसमें सेंसेक्स 362 अंक से अधिक चढ़ गया। आईटी काउंटरों में खरीदारी ने भी रफ्तार पकड़ी। 30 शेयरों वाला बीएसई बेंचमार्क सेंसेक्स 362.13 अंक बढ़कर 58,712.66 पर पहुंच गया। वहीं, एनएसई निफ्टी 102.55 अंक बढ़कर 17,490.70 पर पहुंच गया।

सेंसेक्स पैक की टॉप लूजर और टॉप गेनर कंपनियां

सेंसेक्स पैक से इंफोसिस, विप्रो, टेक महिंद्रा, टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, डॉ रेड्डीज, लार्सन एंड टुब्रो, एचसीएल टेक्नोलॉजीज, बजाज फाइनेंस और अल्ट्राटेक सीमेंट प्रमुख लाभ में रहे। वहीं, एनटीपीसी, भारतीय स्टेट बैंक, मारुति सुजुकी इंडिया, रिलायंस इंडस्ट्रीज और टाइटन टॉप लूजर में शामिल रहे।

एशिया और अमेरिकी बाजार का हाल

एशिया में टोक्यो, शंघाई और हांगकांग के बाजार हरे निशान में कारोबार कर रहे थे। बता दें कि बुधवार को अमेरिकी बाजार काफी तेजी के साथ बंद हुए थे। वहीं, बुधवार को बीएसई बेंचमार्क 214.17 अंक या 0.37 प्रतिशत बढ़कर 58,350.53 पर बंद हुआ था। वहीं, निफ्टी 42.70 अंक या 0.25 फीसदी बढ़कर 17,388.15 पर पहुंच गया था।

अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड

इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड 0.24 प्रतिशत चढ़कर 97.02 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। वहीं, विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार में शुद्ध खरीदार बने रहे, क्योंकि उन्होंने बुधवार को एक्सचेंज के आंकड़ों के अनुसार 765.17 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इनवेस्टमेंट स्ट्रैटेजिस्ट वी के विजयकुमार ने कहा कि अगर एफपीआई की खरीदारी जारी रहती है, तो बाजार में मजबूती बनी रह सकती है, लेकिन निवेशकों को थोड़ी सावधानी बरतनी चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत में एफपीआई ने खरीदारों को बदल दिया है।

Edited By: Sarveshwar Pathak