राज्य ब्यूरो, मुंबई। शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने कहा है कि वह हिंदुओं और अपने शिवसैनिकों के लिए अयोध्या और काशी जाएंगे। इन यात्राओं की घोषणा जल्द ही की जाएगी।

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित अपने साक्षात्कार में उद्धव ठाकरे ने राममंदिर के मुद्दे पर भाजपा को घेरते हुए कहा कि वह इस मुद्दे का इस्तेमाल एक बार फिर चुनाव के लिए करना चाहती है। कुछ दिनों पहले खुद उनकी (भाजपा की) तरफ से कहा गया कि चुनाव से पहले अयोध्या में राम मंदिर बनना शुरू हो जाएगा। इसका मतलब साफ है कि वह फिर से चुनाव को उसी तरफ ले जाना चाहते हैं। ठाकरे का यह साक्षात्कार सामना के कार्यकारी संपादक एवं शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राऊत ने लिया है।

इसी मुद्दे पर आगे बोलते हुए शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि मुझे नहीं मालूम की वहां राममंदिर निर्माण कब शुरू होगा। लेकिन मेरी इच्छा है कि मैं वहां जाकर आऊं। उद्धव के अनुसार वह वाराणसी जाकर वहां की गंगा आरती में भी शामिल होना चाहते हैं। उद्धव आगे कहते हैं कि वहां के शिवसैनिकों के लिए एवं हिंदुओं के लिए वह इन दोनों स्थानों पर जाना चाहते हैं। लेकिन संजय राऊत द्वारा यह पूछने पर कि आपके वहां जाने से शिवसेना के प्रति अच्छा माहौल बनेगा, उद्धव ने स्पष्ट किया कि यदि राम के दर्शन को राजनीति से जोड़ेंगे, तो यह सोच गलत हो जाएगी।

उद्धव भले ही अपनी अयोध्या-वाराणसी यात्रा की योजना को राजनीति से अलग रखने की बात कर रहे हों, लेकिन कुछ माह पहले शिवसेना की ओर से स्पष्ट किया जा चुका है कि अब वह महाराष्ट्र के बाहर राष्ट्रीय स्तर पर भी राजनीति में रुचि लेगी। उद्धव ने अपने साक्षात्कार में केंद्र सरकार की योजनाएं सिर्फ विज्ञापन तक सीमित रहने की बात करते हुए कहा कि इनका लाभ आम लोगों को नहीं मिल रहा है। लेकिन करोड़ों रुपए के खर्च से छप रहे विज्ञापनों को देखकर लोग समझते हैं कि हो सकता है ये योजनाएं उनके गांव या राज्य में न आई हों, अन्य राज्यों व गांवों को इनका लाभ मिल रहा हो।

 

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस