मुंबई, मिड डे। मुंबई में कोरोना संक्रमण के दूसरी लहर के कम होने के बाद आवश्‍यक गतिविधियों को आम लोगों को खोला जा रह है, लेकिन वहीं संभावित तीसरी लहर का डर भी अब सताने लगा है जिसे देखते हुए बीएमसी (BMC) ने नवरात्रि उत्‍सव (Navratri 2021) के लिए गाइडलाइन (Guideline) जारी की है। बृहन्मुंबई नगर निगम की तरफ से जारी गाइडलाइन के अनुसार गरबा (Garba) खेलने की अनुमति नहीं दी गई है और आरती या भजन के लिए पंडालों में 10 से अधिक लोगों को उपस्थित नहीं होने दिया जाएगा। निगम ने पूजा पंडालों के लिए सैनिटाइजेशन भी अनिवार्य किया है और पूजा के लिए किसी भी फूल और मिठाई की अनुमति नहीं दी गई है।

इसी प्रकार पांच से दस लोग ही मूर्ति विसर्जन में शामिल हो पाएंगे। कोविड के कारण सील किए हुए इलाकों के निवासियों को त्योहार के दौरान घर से बाहर निकलने के लिए बीएमसी ने मना कर दिया है। नोटिस में नागरिक निकाय ने स्पष्ट रूप से उल्लेख किया है कि लोगों को भीड़ को आकर्षित करने वाले गरबा और अन्य धार्मिक कार्यक्रमों से बचना चाहिए।

ऑनलाइन दर्शन की अनुमति

इसने सार्वजनिक पंडालों से ऑनलाइन दर्शन की अनुमति दी गई है। महामारी के चलते यह अनुमति नि:शुल्क दी जा रही है। नोटिस में आगे कहा गया है कि सार्वजनिक मूर्तियों की ऊंचाई चार फीट से अधिक नहीं होनी चाहिए और घर की मूर्तियों की ऊंचाई दो फीट से कम होनी चाहिए। पांच से अधिक लोगों को घर की मूर्तियों के विसर्जन जुलूस में शामिल होने की अनुमति नहीं होगी और 10 से अधिक लोग सार्वजनिक मूर्तियों के लिए भाग नहीं ले सकते हैं। इसी तरह, पंडालों में आरती या भजन के लिए 10 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं दी जाएगी, और सभी उपस्थित लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक के 15 दिन बाद पूरे होने चाहिए।

नोटिस में कहा गया है कि मंडलों को ऑनलाइन दर्शन का आयोजन करना चाहिए, भीड़ को आकर्षित करने वाले कार्यक्रमों से बचना चाहिए और प्रसाद देने से बचना चाहिए। विसर्जन स्थलों पर किसी को भी जाने की अनुमति नहीं होगी और वार्ड अधिकारी व कर्मचारी मूर्तियों का एकत्रित कर विसर्जन करवाएंगे।

Edited By: Babita Kashyap