मुंबई, राज्य ब्यूरो।  Money Laundering Case महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक में हुए 25,000 करोड़ के घोटाले के मामले में एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार ने अब कह दिया है कि वह ईडी दफ्तर नहीं जाएंगे। ईडी दफ्तर से मेल आने के बाद ये निर्णय लिया गया। गौरतलब है कि मुंबई पुलिस कमिश्नर ने भी एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार से ईडी दफ्तर न जाने की अपील की थी। इससे पहले एनसीपी नेता नवाब मलिक ने बताया था कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक ईमेल भेजा है जिसमें कहा गया है कि शरद पवार को आज कार्यालय का दौरा करने की आवश्यकता नहीं है। ज्ञात हो कि राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार शुक्रवार को मुंबई के प्रवर्तन निदेशालय कार्यालय में दोपहर 2 बजे हाजिर होना था। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पार्टी कार्यालय के बाहर  इकट्ठा शरद पवार के समर्थन में नारे लगाए। 

बलार्ड एस्टेट में सुरक्षा निगरानी के लिए ड्रोन का उपयोग किया जा रहा है, जिससे किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से बचा जा सके। इस मामले में कई वरिष्‍ठ नेताओं ने भी शरद पवार का समर्थन किया है, शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कहा है कि उन पर लगे आरोपों पर लोग विश्वास नहीं रखते, जिस तरह से उनका नाम इस मामले में आया है, उसे लोग स्वीकार नहीं करेंगे।

मुंबई में एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा है कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने एक ईमेल भेजा है जिसमें कहा गया है कि शरद पवार को आज कार्यालय का दौरा करने की आवश्यकता नहीं है। जब आवश्यकता होगी, ईडी उसे सूचित करेगा। हालांकि, शरद पवार ईडी कार्यालय जाने के लिए दृढ़ हैं।

इस मामले में राहुल गांधी का कहना है कि महाराष्ट्र चुनाव से एक माह पहले शरद पवार जी पर ऐसी कार्रवाई कर विपक्ष द्वारा उन पर निशाना साधा जा रहा है। इस मामले में एनसीपी नेता नवाब मलिक का कहना है कि भाजपा सरकार ईडी का दुरुपयोग कर रही है। 

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी कार्यालय के बाहर इकट्ठा हो गए और प्रवर्तन निदेशालय कार्यालय पहुंचने से पहले पार्टी प्रमुख शरद पवार के समर्थन में नारे लगाए।

मुंबई पुलिस बलार्ड एस्टेट में सुरक्षा निगरानी के लिए ड्रोन का उपयोग कर रही है यहां धारा 144 लगाई गयी है। 

डीसीपी संग्राम सिंह निशंदर का कहना है कि सुरक्षा के लिए सभी जरूरी इंतजाम हम कर चुके हैं।  बालार्ड एस्‍टेट समेत सात थाना क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर दी गयी है, जिससे किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना से बचा जा सके। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यालय में एक पुलिस दल स्निफर डॉग के साथ पहुंची है। पुलिस अधिकारियों की एक टीम राकांपा प्रमुख शरद पवार के आवास पर पहुंच चुकी है, वह मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी की जांच के लिए आज बाद ईडी कार्यालय जाएंगे। 

डीसीपी संग्राम सिंह निशंदर ने कहा कि हम किसी भी प्रकार की स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। सुरक्षा के मद्देनजर पूरे इलाके में धारा 144 लागू कर दी गयी है।

मुंबई में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के कार्यालय में एक पुलिस दल स्निफर डॉग के साथ पहुंचा है।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक में हुए 25,000 करोड़ के घोटाले के मामले में प्रवर्तन निदेशालय ने शरद पवार एवं उनके भतीजे अजीत पवार सहित करीब 70 नेताओं के विरुद्ध मामला दर्ज किया है। हालांकि, ईडी की तरफ से बुधवार को ही स्पष्ट कर दिया गया था कि उसकी ओर से एनसीपी अध्यक्ष को कोई सम्मन नहीं भेजा गया है।  

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा कि पुलिस मुंबई और राज्य के अन्य हिस्सों में एनसीपी कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले रही है, यह सही नहीं है। शरद पवार आज दोपहर 2 बजे ईडी कार्यालय जाएंगे। भाजपा सरकार प्रवर्तन निदेशालय का दुरुपयोग कर रही है।

मुंबई के बालार्ड एस्टेट में भी सुरक्षा की दृष्टि से पुलिस ने धारा 144 लगा दी है। गौरतलब है कि प्रवर्तन निदेशालय का कार्यालय यहीं पर स्थित है। राकांपा प्रमुख शरद पवार को मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूछताछ के लिए यहां उपस्थित होना है। 

मुंबई के इन सात थानाें में धारा 144 लागू

मुंबई पुलिस के अनुसार, सात थाना क्षेत्रों में धारा 144 लागू रहेगी। ट्वीट में कहा गया है, 'डियर मुंबईकर्स! कृपया ध्यान में रखें कि सीआरपीसी की धारा 144 के तहत इन इलाकों में निषेधाज्ञा लागू है। 1. कोलाबा थाना, 2. कफे परेड थाना, 3. मरीन ड्राइव थाना, 4. आजाद मैदान थाना, 5. डोंगरी थाना, 6. जेजे मार्ग थान, 7. एमआरए थाना।'

घोषणा की पुष्टि

पवार ने अपनी तरफ से ही शुक्रवार को दो बजे ईडी कार्यालय पहुंचकर उसकी मेहमाननवाजी स्वीकार करने की घोषणा कर दी थी। गुरुवार को उन्होंने ट्वीट करके अपनी इस घोषणा की पुष्टि की है। साथ ही अपने कार्यकर्ताओं को निर्देश भी दिया है कि वे ईडी कार्यालय के बाहर भीड़ लगाकर लोगों को तकलीफ न होने दें। बता दें कि पिछले माह 22 अगस्त को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे को पूरा एक दिन ईडी कार्यालय में गुजारना पड़ा था। 

क्‍या कहना है विपक्ष का

माना जा रहा है कि शरद पवार बिना बुलाए ईडी कार्यालय जाकर अपनी ओर से इसे राजनीतिक मुद्दा बनाने में जुट गए हैं। इस लक्ष्य में उन्हें विपक्ष के अन्य दलों का भी पूरा सहयोग मिल रहा है। विपक्ष का मानना है कि इस मुद्दे पर 78 वर्षीय पवार के पक्ष में सहानुभूति जुटाकर भाजपा-शिवसेना के पक्ष में चल रही लहर की काट ढूंढी जा सकती है। अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के सचिव संजय दत्त ने इसे राजनीतिक बदले की भावना से की जा रही कार्रवाई करार देते हुए आरोप लगाया है कि सत्तारूढ़ भाजपा द्वारा पूरे देश में विपक्ष को खत्म करने का प्रयास किया जा रहा है। समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अबू आसिम आजमी का कहना है कि भाजपा-शिवसेना चुनाव के दौरान इस तरह की कार्रवाई करके यह जताना चाहती हैं कि सिर्फ वही पाक-साफ हैं, बाकी सब भ्रष्ट हैं। 

कार्रवाई पर आती है हंसी: स्वाभिमानी शेतकरी संगठन

कभी खुद शरद पवार के गढ़ बारामती में उनके विरुद्ध धरने पर बैठ चुके स्वाभिमानी शेतकरी संगठन के अध्यक्ष एवं सांसद राजू शेट्टी कहते हैं कि इस तरह की कार्रवाई पर हंसी आती है। सरकार बैंकों से लिया गया कर्ज अदा न करने वालों पर कार्रवाई करने के बजाय शरद पवार एवं उनके साथ ऐसे कुछ लोगों पर कार्रवाई कर रही है, जिनका इस घोटाले के समय महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक से कोई मतलब ही नहीं था। शेट्टी कहते हैं कि एमएससीबी से बैंक से कर्ज लेने वाले 75 फीसद लोग तो अब भाजपा-शिवसेना में ही हैं। यदि ईडी निष्पक्ष होने का दावा करती है, तो उसे सबसे पहले उन लोगों को पकड़ना चाहिए जो बैंक का पैसा डकारकर अब सत्ता पक्ष में बैठे दिखाई दे रहे हैं। 

महाराष्ट्र में दर्दनाक हादसा: ट्रक-कार की टक्कर में चार लोगों की मौके पर मौत

 

Posted By: Babita kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप