नई दिल्ली/मुंबई। शीना बोरा मर्डर केस में तीनों आरोपियों इन्द्राणी मुखर्जी, संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम राय की न्यायिक हिरासत खत्म हो रही है। सभी आरोपियों को आज बांद्रा मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया जाएगा। आरोपियों को सुबह 11 बजे कोर्ट में पेश किया जाएगा।

इससे पहले बीते शुक्रवार को इस केस को सीबीआइ के हवाले कर दिया गया था। इस हत्या के पीछे बड़े पैमाने पर वित्तीय लेनेदेन की साजिश सामने आने पर राज्य सरकार ने यह फैसला लिया है। हालांकि मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर को जांच से बेदखल करने के दस दिन बाद राज्य सरकार के अचानक इस फैसले से लोग हैरान हैं।

शीना हत्याकांड की जांच सीबीआई को सौंपी

उल्लेखनीय है कि शीना बोरा की हत्या उसकी मां एवं आइएनएक्स मीडिया की पूर्व सीईओ इंद्राणी मुखर्जी ने अपने पूर्व पति संजीव खन्ना और ड्राइवर श्याम राय के साथ मिलकर 2012 में कर दी थी। शीना के पति और स्टार इंडिया के पूर्व सीईओ पीटर मुखर्जी से कड़ी पूछताछ के बाद से ही इस मामले की जांच में कई मोड़ आए हैं।

महाराष्ट्र के अतिरिक्त गृहसचिव के.पी. बख्शी ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा कि यह मामला सिर्फ हत्या तक सीमित नहीं है। अब तक की जांच में इससे कुछ बड़े वित्तीय मामलों का लेनदेन भी जुड़ा होने के संकेत मिल रहे हैं। इसलिए राज्य सरकार ने इसकी जांच सीबीआइ को सौंपने का फैसला किया है। सीबीआइ जबसे इसकी जांच शुरू करना चाहेगी, राज्य पुलिस उसे अब तक की गई जांच एवं एकत्र किए गए सभी सबूत उसे सौंप देगी। राज्य सरकार ने जांच सीबीआइ को सौंपने का निर्णय राज्य के पुलिस महानिदेशक संजीव दयाल की रिपोर्ट आने के बाद लिया है।

शीना हत्याकांड में गृह विभाग का यू-टर्न

Posted By: Gunateet Ojha