मुंबई, प्रेट्र। दाऊद इब्राहिम के करीबी इकबाल मेमन मिर्ची के खिलाफ मनी लॉंन्ड्रिंग मामले में जांच के सिलसिले में ईडी ने शनिवार को डीएचएफएल और अन्य लिंक्ड फर्मों के लगभग एक दर्जन परिसरों में छापेमारी की। गौरतलब है कि मिर्ची के नाम से कुख्यात दिवंगत इकबाल मिर्ची और प्रफुल्ल पटेल के परिवार की प्रमोटिड कंपनी के बीच वित्तीय सौदेबाजी हुई थी। 

मिली जानकारी के अनुसार ये छापे धन शोधन निवारण अधिनियम के प्रावधान के तहत मुंबई और उसके आसपास के लगभग एक दर्जन परिसरों की जा रही है। दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्प लिमिटेड का कथित तौर पर सनब्लिंक रियल एस्टेट के साथ व्यावसायिक संबंध था, डीएचएफएल ने रियल एस्टेट फर्म को 2,186 करोड़ रुपये का ऋण दिया था। ईडी को संदेह है कि सनब्लिंक द्वारा मिर्ची और उसके सहयोगियों से जुड़े खातों में पैसा भेजा गया था। ईडी दस्तावेजों और अन्य सबूतों के आधार पर साक्ष्य की तलाश कर रही है। डीएचएफएल ने पहले कहा था कि इसमें कथित संदिग्ध लेनदेन का कोई संबंध नहीं है।

गौरतलब है कि  मिर्ची की 2013 में लंदन में मौत हो गई थी। उस पर ड्रग तस्करी और जबरन वसूली जैसे अपराधों में दाऊद इब्राहिम का दाहिना हाथ होने का आरोप लगाया गया था। एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल से इस मामले में एजेंसी द्वारा शुक्रवार को मिर्ची के परिवार के साथ कथित संपत्ति के सौदे के संबंध में पूछताछ भी की गई थी।

Maharashtra Elections 2019: सीएम फडणवीस का नागपुर में रोड शो, चुनाव प्रचार का आज अंतिम दिन

ईडी के अनुसार, पटेल के रियल एस्टेट कंपनी मिलेनियम प्राइवेट लि.ने 2006-2007 में सीजे हाउस बिल्डिंग का निर्माण किया था, इसमें तीसरे और चौथे फ्लोर मिर्ची के पत्नी हाजरा इकबाल केनाम से हस्तांतरित थी। जिस स्थान पर ये बिल्डिंग बनायी गयी थी, उसे मिर्ची ने ही खरीदा था। जांच अधिकारियों ने दावा किया है कि इस जमीन को मनी लॉन्ड्रिंग, नशीले पदार्थो की तस्करी और जबरन वसूली के पैसे से खरीदा गया है। जबकि पटेल का इस बारे में कहना है कि ये लेन देन कानूनी तरीके से किया गया है।

गुजरात के सीएम रुपाणी की बहन के घर चोरी, पुलिस ने कहा जल्द हिरासत में होंगे आरोपी

 महाराष्ट्र की अन्य खबरें पढऩे के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस