मुंबई। भारतीय मूल के एक अमेरिकी नागरिक को ऐतिहासिक महत्व की प्राचीन धरोहरों एवं वस्तुओं की तस्करी में गिरफ्तार किया गया है।

राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआइ) की टीम ने आरोपी विजय नंदा के घर और गोदाम पर छापे मारकर पहली से 18वीं सदी के करोड़ों रुपये मूल्य की कई प्राचीन मूर्तियां जब्त की हैं।

नंदा को 20 फरवरी तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। डीआरआइ के अतिरिक्त महानिदेशक अजीत कुमार ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी।

उन्होंने कहा, "ये प्राचीन मूर्तियां अमूल्य हैं। यह सांस्कृतिक धरोहर की लूट है।" डीआरआइ के एक अधिकारी ने बताया कि नंदा के ठिकाने से पहली शताब्दी की टेराकोटा मूर्तियां, 17वीं और 18वीं सदी की महिषासुर मर्दिनी और भगवान गणेश की कांस्य प्रतिमाएं बरामद की गई हैं।

नंदा के दक्षिण मुंबई के गिरगाम स्थित घर और मध्य मुंबई के गोदाम पर छापे मारे गए थे। बड़ी मूर्तियों में वारदा गणेश, पद्मपाणि, अवलोकातेश्वर, भगवान विष्णु और नाग-नागिनी की प्रतिमा बरामद की गई हैं।

अधिकारियों को संदेह है कि 10वीं-11वीं शताब्दी की इन ऐतिहासिक धरोहरों को पूर्वी और दक्षिण भारत की विभिन्न मंदिरों से चुराया गया है।

नंदा इन वस्तुओं को तस्करी के जरिये भेजने के लिए कुछ दिनों पहले ही भारत आया था। उसके एक सहयोगी उदित जैन को भी चेन्नई से गिरफ्तार किया गया है। वह अमेरिका और हांगकांग में ऐतिहासिक वस्तुओं की नीलामी कराता है।

Posted By: Gunateet Ojha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस