मुंबई, पीटीआइ। महाराष्ट्र (Maharashtra) की कमान अब एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) के हाथ में है। सोमवार को विधानसभा में विश्वास मत साबित करने के बाद से वे लगातार राज्य के विकास के लिए काम करने की बात कर रहे हैं। इस बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने सोमवार को सार्वजनिक रूप से कहा कि शिवसेना (Shiv sena) नेतृत्व के खिलाफ उनके हालिया 'विद्रोह' के पीछे भाजपा (BJP) की सक्रिय भूमिका थी। शिंदे ने कहा कि गुजरात से गुवाहाटी जाने के बाद वह फडणवीस से तब मिलते थे जब उनके गुट के विधायक सो रहे थे, लेकिन विधायकों के जागने से पहले वह (गुवाहाटी) लौट आते थे।

शिवसेना में विद्रोह कैसे हुआ?

विश्वास मत जीतने के बाद राज्य विधानसभा में शिंदे की टिप्पणी से यह स्पष्ट हो गया कि भाजपा नेता और वर्तमान उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इस दौरान शिंदे के नेतृत्व वाले समूह की गतिविधियों में सक्रिय रूप से शामिल थे। ज्ञात हो कि शिंदे गुट के विधायक बीते माह के अंत में गुवाहाटी के एक लग्जरी होटल में ठहरे हुए थे। हालांकि चर्चा ये हो रही थी कि शिंदे ने गुवाहाटी से गुजरात पहुंचने के बाद फडणवीस से गुपचुप मुलाकात की थी। रिपोर्टों में दावा किया गया कि सुबह होने से पहले शिंदे गुवाहाटी के उस होटल में लौट आए जहां वह 40 विधायकों के साथ रुके हुए थे।

पीएम मोदी का मिला आशीर्वाद 

एकनाथ शिंदे ने बताया- 'हमारी संख्या (भाजपा की तुलना में) कम थी, लेकिन पीएम नरेन्‍द्र मोदी ने हमें अपना आशीर्वाद दिया। शपथ लेने से पहले मोदी साहब ने मुझसे कहा था कि वह मेरी हर संभव मदद करेंगे। अमित शाह साहब ने कहा कि वह हमारे पीछे चट्टान की तरह खड़े रहेंगे।" फडणवीस की ओर इशारा करते हुए शिंदे ने कहा, "लेकिन वह सबसे बड़े कलाकार हैं।"

एकनाथ शिंदे ने बताया, "जब मेरे साथ विधायक सो रहे होते थे तब हम मिलते थे लेकिन उनके उठने से पहले (गुवाहाटी) लौटते थे।" फडणवीस स्पष्ट रूप से शिंदे के खुलासे से कतराते दिखे। एकनाथ शिंदे ने देवेंद्र फडणवीस का जिक्र करते हुए कहा, ''कोई नहीं जानता कि वह कब क्‍या करेंगे। '' बता दें कि बीते एक सप्‍ताह तक महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल के बाद 30 जून को एकनाथ शिंदे ने राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण की।

Edited By: Babita Kashyap