मंबई, मिड डे। मुंबई के घाटकोपर में अपनी मां के साथ रहने वाले एक कलयुगी बेटे का गुनाह सुनकर किसी के भी पैरों तले जमीन खिसक जाएगी। 33 वर्षीय मोहम्मद शफी सोहेल शेख ने न केवल अपनी मां की हत्या की बल्कि उसके शव के साथ जो अमानवीय कृत्य किया वह किसी को भी विचलित कर सकता है। घटना 28 दिसंबर की है घाटकोपर में रहने वाले मोहम्मद शफी सोहेल शेख ने अपनी मां की हत्या कर दी। इसके बाद वह दरगाह पर अपने गुनाह की माफी भी मांगने चला गया। 

घटना के अगले दिन भी इसी घर में सोया जहां उसकी मां का शव पड़ा हुआ था। शेख ने अपनी मां के गहने बेच दिये और उससे मिले रुपयों से अपनी स्कूटी भी वापस ले आया। उसने नये साल का जश्न मनाने के लिए कुछ पैसे अपनी प्रेमिका को भी दे दिये।  

घटना की जानकारी तब हुई जब सड़क के किनारे उसकी मां का शव मिला, जांच के दौरान, पुलिस ने उस जगह के आसपास कैमरों की सीसीटीवी फुटेज की जांच की। एसआईटी के एक अधिकारी ने बताया कि हमने सीसीटीवी में एक व्यक्ति को अपनी स्कूटी पर भारी सामान लाद कर लाते हुए देखा, लेकिन छवि धुंधली होने की वजह से वाहन सवार की पहचान नहीं हो पा रही थी। 

जांच में पाया गया कि ये स्कूटी कुर्ला पश्चिम में महाजन वाडी से आई थी। इसके बाद पुलिस वहां गयी और इस मामले में पूछताछ की। तभी पता चला कि 53 साल की बदरुन्निसा मोहम्मद शफी शेख नाम की एक महिला कुछ दिनों से गायब थी।

पुलिस अधिकारी ने जब महिला के घर जाकर उसके बेटे शेख सोहेल से इस बारे में पूछताछ की तो उसने कहा कि वह दिल्ली गई है और कुछ दिनों में वापस आ जाएगी। लेकिन पुलिस को उस पर शक हो रहा था तब जांच पड़ताल के बाद शेख ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। 

सोहेल शेख ने बताया कि वह 2018 में कुवैत से वापस आया है, यहां आकर कोई काम धंधा न होने और नशे की आदत के कारण उसका अपनी मां से रोज झगड़ा होता था। उसकी मां बदरुन्निसा एक ब्यूटीशियन थी और पड़ोस में टिफिन सर्विस भी चलाती थी। 28 दिसंबर की शाम को बदरुन्निसा के बेटे सोहेल ने अपनी मां गला घोंट दिया था, जबकि वह बेटे के साथ बहस के बाद रसोई में काम कर रही थी। मां को मारने के बाद, उसने तुरंत अपना घर बंद कर दिया और पास की दरगाह में चला गया।

लौटने पर, सोहेल शेख ने अपनी मां के हाथ से एक एक सोने की चूड़ी निकाली और उसे पास की एक गहनों की दुकान में बेच दिया और पास के  गैरेज से अपनी गिरवी रखी हुई स्कूटी को वापस ले आया। घटना की अगली रात 29 दिसंबर को वह काफी ज्यादा नशे में घर आया और सो गया, जबकि उसकी मां का शव अभी भी घर में पड़ा हुआ था। अगले दिन वो उठा और शरीर के टुकड़े कर उन्हें बाथरूम में धोया और एक चादर में बांध लिया। 30 दिसंबर की रात को वह बेडशीट में बंधे शव के टुकड़ों को स्कूटी पर लादकर बाहर छोड़ आया। 

उसके बाद वह चेंबूर में अपनी प्रेमिका के घर गया और सोने की चूड़ी बेचने पर मिले 40 हजार रुपये में से 25 हजार रुपये उसे दे दिये। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, शनिवार को उसे उदालत में पेश किया जाएगा। 

लोया केस को फिर खोल सकती है महाराष्ट्र सरकार: मंत्री नवाब मलिक

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस