राज्य ब्यूरो, मुंबई। जम्मू-कश्मीर के पर्यटन विभाग ने पहले से ही पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहे इस केंद्रशासित प्रदेश में 75 नए पर्यटन स्थलों को चिह्नित किया है। जम्मू व कश्मीर के पर्यटन निदेशक क्रमश: विवेकानंद राय व डा. जीएन इट्टू ने बुधवार को मुंबई में संवाददाता सम्मेलन के दौरान आश्वस्त किया कि केंद्रशासित प्रदेश हर दृष्टि से पूरी तरह सुरक्षित है। इसके कारण न सिर्फ बड़ी संख्या में पर्यटक, बल्कि फिल्मों व धारावाहिकों की शूटिंग करने वाले भी जम्मू-कश्मीर का रुख कर रहे हैं। डा. इट्टू के अनुसार, पर्यटन विभाग ने पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रदेश में 75 नए पर्यटन स्थलों को चिह्नित किया है। इन जगहों पर जरूरी बुनियादी सुविधाएं भी जुटा ली गई हैं। 20 अक्टूबर से शुरू होने जा रहे जम्मू-कश्मीर पर्यटन महोत्सव में पर्यटक इन स्थलों पर जाकर नयापन का एहसास कर सकते हैं।

विवेकानंद राय के अनुसार, अब इस केंद्रशासित प्रदेश को पर्यटक उतना ही सुरक्षित मान सकते हैं, जितना उनका खुद का घर। कोविड के इस दौर में जब फिल्मों की शूटिंग के लिए लोगों का विदेश जाना मुमकिन नहीं हो पा रहा है, तब जम्मू-कश्मीर उन्हें आकíषत कर रहा है। प्रदेश की नई फिल्म पालिसी भी लोगों को आकíषत कर रही है। इसके तहत वहां फिल्म निर्माण से जुड़ी कई बुनियादी सुविधाएं जुटाई जा रही हैं, ताकि बाहर से आनेवाले निर्माताओं को अपने साथ कम से कम सामान लाना पड़े। स्थानीय युवाओं को भी इस प्रकार की ट्रेनिंग दी जा रही है, जो बाहर से आनेवाले निर्माताओं के लिए सहायक सिद्ध होंगे। डा. इट्टू ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पर्यटन विभाग ने राज्य के 80 गांवों को चिह्नित कर प्रत्येक के चार-पांच युवाओं को पर्यटन से संबंधित प्रशिक्षण देने का फैसला किया है। इससे युवा पर्यटन क्षेत्र में न सिर्फ स्वरोजगार खड़ा कर सकेंगे, बल्कि अपने साथ कई और युवाओं को भी जोड़ पाएंगे। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में काफी पर्यटक आते हैं। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra