मुंबई, मिडडे। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से एक चार माह की बच्ची को अगवा कर तमिलनाडु में बेचने के आरोप में पुलिस ने 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। दक्षिण मुंबई में वीपी रोड पुलिस ने एक बच्चा बेचने वाले गिरोह में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में तीन महिलाओं सहित 11 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि गिरगांव निवासी 50 वर्षीय अनवारी अब्दुल राशिद शेख ने करीब ढाई महीने पहले एक दंपती को चार महीने की बच्ची के साथ अपने घर में रहने की इजाजत दी थी। इस दंपती ने खुद को इब्राहिम और संगीता चौबे बताया था। उसने बताया था कि वे लिव इन रिलेशनशिप में थे। जब वे काम के लिए बाहर गए तो शेख ने बच्ची की देखभाल की। दिसंबर, 2021 में दोनों बिना मालिक को बताए घर से चले गए और फिर कभी नहीं लौटे। कुछ समय बाद इब्राहिम बच्ची को यह कह कर बाहर ले गया कि उसे टीका लगवाना है, लेकिन बाद में दोनों में से कोई वापस नहीं आया।

इस तरह हुआ खुलासा

शेख की शिकायत पर पुलिस ने तीन जनवरी को मामला दर्ज किया। इसके बाद पता चला कि इब्राहिम उस बच्ची को तमिलनाडु ले गया है। पुलिस को पता चला कि इब्राहिम कुछ सरोगेट माताओं के संपर्क में था और उनमें से एक ने उसे एक निःसंतान दंपती के डाक्टर के पास जाने की सूचना दी थी। उसके जरिए बच्ची को दंपती को 4.8 लाख रुपये में बेचा गया। शहर की पुलिस ने सेलवान पट्टी थाने की सीमा से पांच लोगों को गिरफ्तार किया है। डीसीपी डा सौरभ त्रिपाठी को मुंबई और ठाणे से दो महिलाओं और चार पुरुषों को गिरफ्तार किया गया। इब्राहिम के मुताबिक, वह बच्ची का पिता है, लेकिन सच्चाई जानने के लिए हम उन दोनों का डीएनए टेस्ट कराएंगे। हम बच्ची की मां की भी तलाश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि बाल कल्याण समिति के आदेश पर बच्ची को केयर सेंटर भेज दिया गया है। चार माह की बच्ची को 4.8 लाख रुपये में बेचा गया था। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra