जबलपुर [ हेमंत नामदेव ]। जबलपुर देश का पहला कैशलेस ट्रांजैक्शन वाला स्टेशन बन गया है। शनिवार शाम से पीओएस मशीन से कार्ड स्वैप कर टिकट लेने की व्यवस्था भी शुरू हो गई। फिलहाल 6 मशीनों को इंस्टॉल किया गया है। मुख्य स्टेशन के आरक्षण केंद्र पर 3, मदन महल आरक्षण केंद्र पर 2 और एक मशीन मुख्य स्टेशन के पार्सल ऑफिस में लगाई गई है। खास बात यह है कि इस तरह के ट्रांजेक्शन पर ग्राहकों को किसी तरह के अतिरिक्त शुल्क का भुगतान भी नहीं करना होगा। इसके साथ ही आने वाले दिनों में जनरल टिकट भी पीओएस मशीनों से ली जा सकेंगी। जानकारी मुताबिक रेलवे ने भारतीय स्टेट बैंक से देश के विभिन्न स्टेशनों, पार्सल आफिसों में 10 हजार पीओएस [ प्वांइट ऑफ सेल ] मशीनें लगाने का अनुबंध किया है।

भोपाल, हबीबगंज में जल्द मिलेगी सुविधा
जल्द ही यह सुविधा भोपाल मंडल के भोपाल और हबीबगंज स्टेशन पर भी मिलनी शुरू हो जाएगी। इसके बाद कोटा मंडल का नंबर आएगा। रेलवे की कोशिश है कि कैशलेस ट्रांजेक्शन की यह सुविधा जल्द ही पूरे देश में बना ली जाए।
कार्ड स्वैप कर ऐसे लें टिकट
टिकट खरीदने आपको अपना डेबिट--क्रेडिट कार्ड बुकिंग काउंटर पर बैठे कैशियर को दिखाकर पीओएस मशीन में स्वैप करना होगा। इसके बाद डिजीटल अंकों को दबाकर रेल किराए की राशि लिखना होगी। उक्त राशि आपके बैंक खाते से रेलवे के खाते में ट्रांजेक्ट [ अंतरित ] करने डेबिट--क्रेडिट कार्ड का कोड मांगा जाएगा। आप अपना गुप्त कोड डिजिटल अंकों में दबाकर ओके करेंगे तो राशि का ट्रांजेक्शन हो जाएगा।

रेलवे स्टेशनों पर 10 हजार पीओएस मशीनें लगाने का करार किया गया है। पहली मशीन जबलपुर स्टेशन पर इंस्टॉल करके शनिवार को कैशलैस ट्रांजेक्शन किया गया। अब पूरे देश में यह सुविधा बनाई जाएगी- दीपेश राज, रीजनल मैनेजर, एसबीआई जबलपुर।

रेलवे ने शनिवार से कैशलेस ट्रांजेक्शन शुरू कर दिया। मुख्य स्टेशन के बुकिंग काउंटर और पार्सल ऑफिस में नागरिक इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं- सुरेंद्र यादव, सीपीआरओ, पश्चिम मध्य रेलवे जबलपुर।

पुलिसकर्मियों ने समझा कैशलेस सिस्टम

अधौरा के बैंक फिर हुए कैशलेश

Edited By: Bhupendra Singh