नईदुनिया, जबलपुर। देश में आर्थिक इमरजेंसी जैसे हालात हो गए हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कैबिनेट को विश्वास में न लेकर तुगलकी निर्णय ले लिया। यहां गरीब और मध्यम वर्गीय जनता परेशान है और वह जापान में जाकर बैठे हैं। ये बातें कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कही। उनका शनिवार को अपनी पत्नी अमृृता सिंह के साथ जबलपुर आगमन हुआ।

सिंह ने कहा कि यह अचानक 500 और 1000 के नोट बंद करने का प्रधानमंत्री ने जो निर्णय लिया है वह जल्दबाजी में लिया गया निर्णय है। इसका असर केवल गरीब और मध्यम वर्ग पर हुआ। उन्हें 100 रुपये के नोट नहीं मिल रहे हैं। एटीएम में पैसा नहीं है। लोग बैंकों में कतार लगाकर खड़े हैं और पैसा नहीं मिल रहा है। उच्च वर्ग पर इसका असर नहीं पड़ रहा है।

कहां आया काला धन
देश में काला धन रोकने पर पूछे गए सवाल का जबाव देते हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि कालाधन आने वाला था, कहां आया। कालाधन रियल एस्टेट में है। भाजपा पर आरोप लगाते हुए कहा कि जब आठ नवंबर को मोदी जी ने 500 और 1000 रुपये के नोट के चलन पर रोक लगाई और 2000 का नया नोट शुरू किया तो भाजपा के लोगों को पहले से कैसे मालुम हो गया। यह सब सीक्रेट नहीं था। भाजपा के लोगों के खाते में पैसा कहां से जमा हो गया।

पढ़ें:अनफिट अधिकारी ने किया एनकाउंटर करने वाली टीम का नेतृत्व

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस