नईदुनिया, मंडला। कान्हा नेशनल पार्क के मुक्की परिक्षेत्र में बाघ की मौत हो गई। एक सप्ताह के अंदर दूसरी मौत से पार्क प्रबंधन सकते में है। प्रबंधन मौत का कारण आपसी लड़ाई बता रहा है। बाघ की उम्र छह से आठ वर्ष है। बाघ के फेफड़े, गर्दन और सीने पर गहरे घाव हैं। शव ३६ घंटे पुराना है।शुक्रवार को गश्त के दौरान गायधार परिसर के प्रकोष्ठ क्रमांक 29 में बाघ मृत अवस्था में पाया गया।

वन्यप्राणी चिकित्सक ने शव की जांच कर पोस्टमार्टम किया। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि बाघ के शरीरी में घाव मिले हैं। ये घाव किसी हिंसक वन्य प्राणी के हैं। बाघ की मौत अन्य बाघों के साथ आपसी लड़ाई के कारण हुई है।

पोस्टमार्टम के दौरान वन्यप्राणी चिकित्सक ने आवश्यक सैंपलिंग भी की। इससे पहले बफर जोन में 22 अक्टूबर को वनग्राम मानेगांव से लगे जंगल में बाघ की मौत हो गई थी। इसे शिकारियों ने करंट लगाकर मारा था।

व्यापम के हाई प्रोफाइल आरोपियों का भोपाल में होगा

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप