ग्वालियर, जेएनएन। घटना के 24 घंटे बाद ही मासूम की हत्या का खुलासा हुआ। क्योंकि सीसीटीवी कैमरे में जब आरोपी लड़की के साथ दिखाई दिया तो पुलिस उसके घर पहुंची तो वह गायब मिला, लेकिन तलाशी के दौरान उसके कपड़े, जिसमें मासूम बच्ची का खून मिला था, पुलिस को मिल गए। पुलिस को बच्ची का शव नहीं मिला इसलिए पुलिस अधिकारी शव की तलाश करते रहे और मामले को लेकर चुप्पी साधे रहे।

रात भर तलाशी लेने पर मंगलवार सुबह टीम फिर पहुंची तो कबाड़ गोदाम के पीछे से दुर्गंध आने पर जब वहां तलाशी ली तो बच्ची का शव मिला। आरोपी ने कपड़े अपनी भाभी से धुलवा लिए थे, वह अपनी भाभी के साथ रह रहा था और उससे कपड़े धुलवाकर वह भाग गया।

रविवार दोपहर करीब एक बजे आरोपी बच्ची को बहला-फुसलाकर ले गया। उसके बाद दुष्‍कर्म किया और फिर हत्या कर दी। आरोपी यहां से फरार हो गया और अपने घर पहुंच गया। उसकी भाभी उसके साथ रहती है, उसके बड़े भाई ने उसकी भाभी को छोड़ दिया है। इस वजह से दोनों अलग-अलग रहते हैं। आरोपी ने यहां अपने कपड़े उतारे और भाभी को उन्‍हें धोने के लिए दे दिया लेकिन फिर भी उनकी शर्ट पर खून के धब्बे, घुटनों पर घास और जींस पर मिट्टी के धब्बे थे।

उसे इस बात का अंदाजा नहीं था कि परिजन पुलिस तक पहुंच सकते हैं। जब लड़की के भाई ने घर पर बताया कि कल्लू उसे ले गया है, तो लड़की के पिता और रिश्तेदार उसके घर पहुंच गए। जब बच्ची के पिता ने उससे पूछा तो उसने कहा- वह लड़की के बारे में कुछ नहीं जानता, उसने कहा कि वह लड़की को बर्फ का गोला दिलाकर छोड़ गया था। इधर आरोपी के पिता ने कहा कि अब वह पुलिस के पास जा रहा है, यहीं से उसने भागने की योजना बनाई। लड़की के पिता और परिजन जैसे ही थाने जाने को कह कर बाहर निकले तो वह भाग गया।

उसकी भाभी को पूरी घटना के बारे में पता था, लेकिन वह छिपती रही। रात में पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे देखे तो आरोपी बच्ची को ले जाता नजर आया। इसके बाद पुलिस अधिकारियों को शक होने लगा कि कोई बड़ी घटना हुई है तो पुलिस अधिकारी सक्रिय हो गए। सोमवार सुबह से ही कैमरे फिर नजर आए, जब पुलिस कल्लू के घर पहुंची तो वह गायब मिला।

सीएसपी महाराजपुरा रवि भदौरिया ने बताया कि उनके घर खोजबीन कर आरोपी की भाभी से पूछताछ की तो उसने कपड़े के बारे में बताया। इन कपड़ों पर खून और कीचड़ लगा हुआ था, यहीं से शक गहरा गया कि लड़की के साथ कोई अप्रिय घटना हुई है। इसके बाद रात भर तलाशी चलती रही, सुबह पुलिस को दुर्गंध आने पर शव मिला।

जानें पूरा घटनाक्रम

1 बजे : आरोपी मंदिर पहुंचा, कुछ देर बैठा रहा, फिर लड़की को अपने साथ ले गया, आइसक्रीम दिलाने को कहा।

1.45 बजे: आरोपी को पैदल ही ओवरब्रिज के नीचे झाड़ियों की ओर ले जाते देखा गया।

2.30 बजे : पहले दुष्‍कर्म किया फिर हत्या कर दी।

3.30 बजे: यहां से इसे अकेले ही वापस आते देखा गया।

4 बजे वह अपने घर पहुंचा, यहां कपड़े उतारकर धोए।

5 बजे : जब लड़की घर नहीं पहुंची तो लड़की के पिता व परिजन उसकी तलाश करने लगे और कुछ देर बाद आरोपी के घर पहुंच गए।

6.30 बजे : आरोपी घर से फरार हो गया।

9 बजे रात में परिजनों ने हजीरा थाने पहुंचकर अपहरण का मामला दर्ज कराया।

1 बजेः आरोपित मंदिर पर पहुंचा, कुछ देर बैठा, फिर बच्ची को आइसक्रीम दिलाने की बात कहकर अपने साथ ले गया।

1.45 बजेः आरोपित बच्ची को ओवरब्रिज के नीचे झाड़ियों की तरफ ले जाता हुआ पैदल दिखा।

2.30 बजेः पहले दुष्कर्म किया फिर हत्या की।

3.30 बजेः यहां से अकेला वापस आता दिखा।

4 बजेः वह अपने घर पहुंचा, यहां कपड़े उतारकर धुलवाए।

5 बजेः जब बच्ची घर नहीं पहुंची तब बच्ची का पिता व स्वजन उसे ढूंढने लगे और कुछ देर बाद आरोपित के घर पहुंचे।

6.30 बजेः आरोपित घर से भाग गया।

9 बजेः रात को स्वजन हजीरा थाने पहुंचे और अपहरण का मामला दर्ज कराया।

शार्ट पोस्‍टमार्टम रिपोर्ट

लड़की के सिर की हड्डियां टूट गईं, जबड़ा पूरी तरह टूट गया। नाक की हड्डी टूटी हुई मिली है, डाक्टरों ने भी दुष्कर्म की आशंका जताई है। इसकी विस्तृत जांच के लिए वैजाइनल स्वाब लिया गया है।

यह अकाट्य साक्ष्य दिलाएंगे आरोपित को कड़ी सजा

- बच्ची के हाथ में बाल और खून मिला है।

- लड़की के कपड़े अस्त-व्यस्त थे, उसकी स्कर्ट और अंडरगारमेंट पास में ही मिले थे, उस पर आरोपियों के उंगलियों के निशान हैं।

-आरोपी के घर से कपड़े बरामद।

-जिस पत्थर से उसे कुचला गया, उस पर बच्ची का खून और आरोपी की उंगलियों के निशान हैं।

-वैजाइनल स्वाब।

-जब आरोपी पकड़ा जाएगा तो डीएनए टेस्ट होगा, इस टेस्ट की रिपोर्ट से बड़ा आधार बनेगा।

- सीसीटीवी कैमरों के फुटेज सहित अन्य डिजिटल साक्ष्य।

-फोरेंसिक टीम की रिपोर्ट

Edited By: Babita Kashyap