भोपाल, जेएनएन। हमेशा की तरह इस बार भी दीपावली व छठ पर्व के खास मौके पर यूपी और बिहार जाने वाले लोगों के लिए रेलवे विभाग स्‍पेशल ट्रेन चला रहा है। ये स्‍पेशल ट्रेन हबीबगंज से बिहार के दानापुर के लिए अगले माह नवंबर से चलेगी। ट्रेन में 22 कोच होंगे जिनमें आरक्षण के बाद ही सीट मिल पाएगी। इसके लिए रेलवे ने टिकट बुकिंग प्रक्रिया शुरू कर दी है। यह ट्रेन का रूट इटारसी, नरसिंहपुर, जबलपुर, कटनी, सतना, मानिकपुर, प्रयागराज छिवकी, पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन निर्धारित किया गया है। हालांकि अभी इस मार्ग पर काफी कम ट्रेनें चलती हैं और 3 से 4 बार ट्रेन बदलनी पड़ती है।

त्‍योहार के सीजन खासकर दीपावली और छठ के दौरान रेलवे पर अतिरिक्‍त भार बढ़ जाता है जिसके चलते ही स्‍पेशल ट्रेन चलाने का फैसला किया गया है। इन स्‍पेशल ट्रेनों में किराया सामान्‍य से थोड़ा अधिक रखा गया है इसलिए टिकट बुक करवाने से पहले किराया चार्ट अवश्‍य देख लें। यात्री अपनी सुविधानुसार ऑनलाइन या रेलवे स्‍टेशन पर बने टिकट काउंटर पर जाकर टिकट बुक करवा सकता है। रेलवे की ओर से मंगलवार को ही स्‍पेशल ट्रेन चलाने कीघोषणा की गई है। इसलिए बर्थ अभी खाली हैं।

स्‍पेशल ट्रेन की समय सारणी

- ट्रेन संख्‍या 01647 हबीबगंज-दानापुर सुपरफास्ट स्पेशल, 2, 5 व 10 नवंबर को (तीन ट्रिप) हबीबगंज स्टेशन से दिन में 3 बजकर 30 मिनट पर प्रस्‍थान करेगी और अगले दिन सुबह 10 बजकर 30 मिनट पर दानापुर स्‍टेशन पहुंचा देगी।

-ट्रेन संख्‍या 01648 दानापुर-हबीबगंज सुपरफास्ट स्पेशल 3, 6 व 11 नवंबर को (तीन ट्रिप) दानापुर स्‍टेशन से रात्रि 10 बजकर 50 मिनट पर प्रस्‍थान करेगी और अगले दिन शाम 6 बजकर 35 मिनट पर हबीबगंज स्‍टेशन पहुंचाएगी।

बदरवास स्टेशन पर ठहरेगी इंदौर-चंडीगढ़ स्पेशल ट्रेन

इंदौर-चंडीगढ़-इंदौर के बीच चलने वाली स्पेशल ट्रेन 14 अक्‍टूबर से बदरवास स्टेशन पर भी ठहरेगी । ये बदलाव अगले छह माह तक के लिए किया गया है। बदरवास स्टेशन पर दोपहर 2 बजकर 18 मिनट पर और और ट्रेन संख्‍या 09308 चंडीगढ़-इंदौर स्पेशल सुबह 6 बजकर 42 मिनट पर ठहरेगी। रेलवे का कहना है कि अगर इस स्‍टेशन से ट्रेन में चढ़ने वाले यात्रियों की संख्‍या अधिक हुई तो इस अवधि को आगे के लिए बढ़ाया भी जा सकता है। रेलवे अधिकारी ने बताया कि दीपावली के बाद भोपाल, हबीबगंज, इटारसी और बीना रेलवे स्टेशन से दूसरे राज्यों के लिए और भी स्पेशल ट्रेन चलाये जाने पर विचार किया जा सकता है।

Edited By: Babita Kashyap