इंदौर, जेएनएन। उत्तराखंड के हरिद्वार में कथा करने के नाम पर भक्तों से लाखों रुपये एकत्र करने वाले गुजरात के कथावाचक अजीत सिंह चौहान उर्फ प्रभु महाराज के खिलाफ पुलिस ने धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। मध्य प्रदेश में इंदौर पुलिस कथावाचक को गुजरात से गिरफ्तार कर इंदौर लाई। बुधवार को उसे जिला कोर्ट में पेश किया गया, जहां से 19 मई तक पुलिस रिमांड पर सौंपा गया है। द्वारकापुरी थाना पुलिस के मुताबिक रचना चौहान निवासी ऋषि नगर, इंदौर ने रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि अजीत सिंह चौहान उर्फ प्रभु महाराज ग्राम पोटादा (भावनगर गुजरात) ने फरवरी, 2021 में शहर के सूर्यदेव नगर में भागवत कथा का आयोजन किया था। कथा में मौजूद भक्तों से जल्द ही हरिद्वार में भी कथा कराने की बात कही थी, जिसके लिए कई महिलाओं (करीब तीन हजार) से पांच सौ से लेकर पांच हजार रुपये तक एकत्रित कर दिए थे। कथा में आने-जाने के लिए एसी बस का किराया भी महिलाओं से लिया गया था। भक्तों से आरोपित ने लगभग 40 लाख रुपये इकट्ठा किए थे। बाद में कोरोना संक्रमण के कारण लाकडाउन लग गया। इसके बाद जब आरोपित अजीत सिंह से भक्तों ने कथा के लिए संपर्क किया तो वह टालने लगा और रुपये वापस करने में आनाकानी करने लगा। पिछले दिनों कलेक्टर के समक्ष जनसुनवाई में भी भक्तों ने शिकायत की थी।

गौरतलब है कि गत जनवरी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले कथावाचक तरुण मुरारी ने मुकदमा दर्ज होने के बाद सुर बदल लिया था। उन्होंने अपने बयान के लिए माफी मांगी ती। इसके साथ ही कहा कि उनसे बापू के बारे में भावावेश में ऐसा कुछ बुलवा दिया गया, जो उन्हें नहीं बोलना चाहिए था। वहीं, पुलिस का कहना है कि उनके खिलाफ मामला दर्ज रहेगा। अब आरोपित कथावाचक के माफी मांगने का वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहा है। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर जिले में कथा के दौरान मीडिया से बातचीत में कथावाचक तरुण मुरारी ने गांधीजी पर टिप्पणी की थी। इसका वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने के बाद जिला कांग्रेस कमेटी ने पुलिस अधीक्षक से शिकायत की थी।

Edited By: Sachin Kumar Mishra