भोपाल, जेएनएन। मध्य प्रदेश में अनूपपुर के बकेली गांव के पास गुजरने वाली नदी में नाव पलटने से अफरातफरी मच गई। नाव से स्कूल जा रहे 25 बच्चे सवार थे। सभी स्कूली बच्चे बकेली गांव के थे। ये बच्चे रोज नाव से सोन नदी पार कर चचाई स्थित स्कूल में पढ़ने जाते हैं। नदी में बहाव तेज होने की वजह से नाव पलट गई और सभी बच्चे सोन नदी में बहने लगे, तभी कुछ स्कूली बच्चे जो पहले नदी पार कर अधूरे बने पुल के ऊपर पहुंच चुके थे। नदी में वापस कूद कर सभी बच्चियों को नदी से बाहर निकाला कर बचाया गया। 

नाव पलटने से मचा अफरातफरी

अनूपपुर जिले के चचाई नगर के समीप सोन नदी में नाव से सवार होकर स्कूल जा रहे छात्र-छात्राएं दुर्घटना का शिकार होने से बाल-बाल बच गए। नदी तट से करीब 10 मीटर पहले ही नाव में पानी भर गया और वह पलट गई, जिससे अफरा-तफरी मच गई। तट के नजदीक होने के कारण बच्चे बैग सहित किनारे तक पहुंचे, नाव में जो बड़े छात्र सवार थे। उन्होंने छात्राओं को पानी से बाहर निकालने में मदद की। जहां पर नाव पलटी थी, वहां कमर से ऊपर तक पानी था। घटना के दौरान 25 से अधिक स्कूली बालक-बालिकाएं नाव में सवार थे, जो कि शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के विद्यार्थी हैं।

बारिश की वजब से बढ़ा नदीं में जलस्तर

यह घटना गुरुवार सुबह करीब 10:30 बजे की है। सोन नदी किनारे स्थित ग्राम बकेली, मानपुर और पोड़ी गांव के थे। इस घटना में सभी छात्र-छात्राएं सुरक्षित हैं। रोजाना इन गांव से लगभग 60 छात्र-छात्राएं चचाई माध्यमिक और हायर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ने के लिए नाव का सहारा लेकर आते हैं और वापस उसी तरह घर लौटते हैं। भारी बारिश के कारण इन दिनों नदी में जल स्तर भी बढ़ा हुआ है और नाव की भी हालत जर्जर होने के कारण यह घटना हुआ। हालांकि स्कूली छात्रों को पानी से बाहर निकालने में नाविक जगदीश केवट ने भी मदद की। नौ में लगभग 18 बालिकाएं और छह से अधिक बालक सवार थे। घटना की सूचना मिलने के बाद चाचाई विद्यालय से प्रभारी प्राचार्य नंदी लाल चौधरी, एसडीएम कमलेश पुरी तथा स्थानीय ग्रामीण घटनास्थल पहुंचे। बारिश में इन गांव के स्कूली विद्यार्थी हर वर्ष इसी तरह जोखिम उठाते हुए सोन नदी से स्कूल आने जाने के लिए नाव का सहारा लेते हैं। 

यह भी पढ़ेंः मप्र में बाढ़ की स्‍थिति और अतिवृष्टि को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी से की बात

Edited By: Sachin Kumar Mishra