नर्मदापुरम, जागरण आनलाइन डेस्‍क। नर्मदापुरम में नर्मदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। इसेे देखते हुए प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। अतिवर्षा के चलते नदी-नाले उफान पर हैं। नर्मदांचल में हो रही लगातार वर्षा से नर्मदा, तवा सहित अन्य सहायक नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। नर्मदा खतरे के निशान से एक फीट ऊपर बह रही है। सेठानीघाट पर नर्मदा का खतरे का निशान 964 है सुबह 8 बजे 965.80 फीट जलस्तर दर्ज किया गया। बाढ़ के संभावित खतरे को देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। मुख्यालय सहित विकासखंडों के गांवों में मुनादी कराई जा रही है।  

जिला प्रशासन का मानना है कि बरगी डैम से छोड़ा गया पानी आने के बाद जलस्तर दो से तीन फीट बढ़ेगा। हालांकि राहत की बात यह है कि जितनी तेजी से जलस्तर बढ़ रहा है उतनी ही तेजी से पानी आगे बढ़ने से जमाव की स्थिति नहीं बन रही है। पहाड़ी इलाकों में वर्षा होने से नदियों का जलस्तर अभी और बढ़ेगा।

जानकारी हो कि नर्मदापुरम जिले की डोलरिया तहसील में हथेड़ नदी उफान पर। पुल से सट कर निकल रहा पानी। वाहन चालकों से पुल के ऊपर से धीरे निकलने के लिए कहा जा रहा है।

मालूम हो कि जिले के सभी स्कूलों में मंगलवार का अवकाश घोषित कर दिया गया है। लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने के लिए भी प्रशासन ने प्रबंध किए हैं। शहरी क्षेत्र में नर्मदा किनारे के इलाकों व निचली बस्तियों में नगर पालिका के अमले ने मुनादी कराई है। राहत शिविरों में भोजन पानी व गद्दों की व्यवस्था की गई है। लोगों की मदद के लिए स्वयंसेवी संगठन भी आगे आए हैं। इटारसी रोड स्थित सुखतवा पुल पर पानी होने से एनएच 69 का यातायात रोक दिया गया है। सिवनीमालवा होते हुए वाहन निकाले जा रहे हैं। तवा के दस गेट 12 फीट तक खोले गए हैं जिसमें से 232804 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है।

शहर के महिमा नगर में नर्मदा का बैकवाटर रिहायशी इलाके से कुछ ही दूरी पर है। नर्मदा का जलस्तर बढ़ने के साथ ही पानी मकानों तक आ जाएगा। यहां पर देर रात से ही होमगार्ड के जवान बोट के साथ तैनात कर दिए गए हैं। लोगों को किसी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए एसपीएम स्कूल में भी राहत शिविर बनाया गया है। स्थानीय रहवासियों को हर साल इस परेशानी का सामना करना पड़ता है।

कई मार्ग हुए बंद

जिले के कई मार्गों पर पानी जमा होेने से यातायात बाधित हुआ है। पिपरिया, बनखेड़ी, माखननगर के गांवों में यातायात बंद है। वाहन चालकों को भी हिदायत दी जा रही है कि यदि पानी जमा हो तो रोड पार ना करें। माखननगर के बालाभेंट, बड़ी बालाभेंट सहित अन्य गांवों में भी होमगार्ड के जवान व आपदा मित्र तैनात किए गए हैं। इन्हीं इलाकों में सबसे ज्यादा बाढ़ का खतरा रहता है।

नर्मदापुरम कलेक्टर का कहना है कि बाढ़ के हालत जिले में बने हुए हैं, जिला प्रशासन की हर स्थिति पर नजर है। नर्मदा व तवा का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। डेमों से लगातार पानी छोड़ा जा रहा है। लोगों की सुविधा के लिए राहत शिविर तैयार कराए गए हैं।

Koo App
प्रदेश में कल से भारी वर्षा हो रही है और आज भी कई जिलों में भारी वर्षा की संभावना है। कल से भोपाल, विदिशा, नर्मदापुरम्, अशोकनगर, गुना, सागर और विशेषकर नर्मदा जी के कैचमेंट एरिया में मण्डला, डिण्डोरी से जबलपुर, हरदा, नर्मदापुरम से लेकर सीहोर और रायसेन तक भी काफी बारिश हुई है। नर्मदा जी का जलस्तर खतरे के निशान को छू रहा है। हमारा हरसंभव प्रयास है कि हम इन बांधों से पानी नियंत्रित तरीके से निकालें और बाढ़ की स्थिति निर्मित ना हो। - Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 16 Aug 2022

Koo App
चूंकि आज भी भारी वर्षा की संभावना है, इसलिए जलस्तर काफी बढ़ने की संभावना है। मेरा सभी प्रभावित जिलों के भाई बहनों से निवेदन है कि सावधानी जरूर रखें। मैं स्थिति पर लगातार नजर रखे हुए हूं, सभी जिलों के कलेक्टर और एसपी मेरे संपर्क में है। जहां पानी ज्यादा बढ़ने की संभावना है, वहां एसडीआरएफ की टीम भेज दी गई हैं।
- Shivraj Singh Chouhan (@chouhanshivraj) 16 Aug 2022

तवा डैम की स्थिति, मंगलवार सुबह 8 बजे

डैम का जलस्तर - 1159.80 फीट

छोड़ा जा रहा पानी - 197678 क्यूसेक

गेटों की स्थिति - 10 गेट 12 फीट तक

नर्मदा का जलस्तर

रात 11 बजे - 963.70 फीट

रात 12 बजे - 964.20 फीट

रात 1 बजे - 964.60 फीट

रात 2 बजे - 965.60 फीट

रात 3 बजे - 965.00 फीट

सुबह 4 बजे - 965.10 फीट

सुबह 5 बजे - 965.30 फीट

सुबह 6 बजे - 965.50 फीट

सुबह 8 बजे - 965.80 फीट

Edited By: Priti Jha