भोपाल, जेएनएन। मध्य प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने गणतंत्र दिवस पर बैतूल में कहा कि 31 जनवरी के बाद भी प्रदेश के स्कूल खुलना मुश्किल है। इस बीच, प्रदेश में बुधवार को कोरोना के 9966 मरीज मिले हैं, जबकि इससे पहले 9451 मरीज मिले थे। यानी 515 मरीज बढ़े हैं, लेकिन मरीज बढ़ने की एक वजह यह भी है कि पहले 72 हजार सैंपलों की जांच की गई थी, जबकि बाद 81 हजार से ज्यादा सैंपल जांचे गए हैं। यही वजह है कि पहले संक्रमण दर 13 फीसद रही, जबकि बाद में साढ़े 12 फीसद रही। प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार तीन दिन तक 10 हजार से ऊपर रहने के बाद पिछले दो दिन से इससे नीचे है। प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या अब 72,244 हो गई है। इनमें 1046 यानी 1.4 फीसद मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं।

प्रदेश में बढ़ा कोरोना का प्रकोप

इधर, स्कूल शिक्षा मंत्री कहा कि प्रदेश में कोरोना का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, मुझे नहीं लगता है कि 31 जनवरी के बाद भी स्कूल खुल पाएंगे। उनके मुताबिक, स्कूलों का संचालन कोरोना का प्रभाव देखते हुए किया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार कोरोना संक्रमण की मानीटरिंग कर रही है। प्रदेश के स्कूलों में इतनी व्यवस्था नहीं है कि वह प्रत्येक बच्चे को आनलाइन पढ़ाई करा सके। कुछ बच्चे आनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं और कुछ बच्चे आफलाइन पढ़ रहे हैं। 

तो इस तारीख को चरम पर होगा कोरोना

वहीं, भारतीय सांख्यिकी संस्थान और भारतीय विज्ञान संस्थान ने अपने गणितीय आकलन से गणना की है कि 24 जनवरी के बाद मध्य प्रदेश में मरीजों की संख्या कम होगी। यह आकलन कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में जिस तरह से मरीजों की संख्या में कमी आई थी, उसके आधार पर किया गया है। इन संस्थानों की गणना के अनुसार एक फरवरी को मध्य प्रदेश में कोरोना अपने चरम पर होगा। यहां 24 घंटे में सबसे ज्यादा मरीजों की संख्या 19,500 पहुंच जाएगी। हालांकि 24 जनवरी को पीक आगमन की भविष्यवाणी लगभग सही साबित हो रही है। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra