ग्वालियर, जेएनएन। कोरोना महामारी के कारण पिछले सीजन में शादियों का रंग फीका रहा इस दौरान बहुत कम शादियां हुई और जो हुई भी तो बेरौनक रहीं। ऐसे में कुछ लोगों ने शादियों की तारीख आगे बढ़ा कर नवंबर में कर दिया। अब देव उठनी एकादशी के साथ शादियों का मौसम नजदीक आ रहा है। 15 नवंबर देव उठनी एकादशी के साथ शहनाई बजने का क्रम शुरू हो जाएगा। देवउठनी अबूझ मुहूर्त होता है इस दिन काफी शादियां होती हैं। इस बार पंडितों ने नवंबर और दिसंबर में विवाह के 16 मुहूर्त बताये हैं। पंडित गोविंद आचार्य का कहना है कि पिछले सीजन में कोरोना महामारी के कारण शादियां काफी कम हुई थीं। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के थमने के कारण नवरात्र से ही सगाई और कुंडली मिलान की प्रक्रिया शुरू हो गई हैं। जो लोग अपने बच्‍चों की शादी शुभ मुहूर्त न होने के कारण नहीं कर पा रहे हैं उनहें अभी थोड़ा और इंतजार करना होगा। 15 जनवरी से फरवरी 2020 तक शुभ मुहूर्त रहेंगे उसके बाद होली के बाद विवाह के मुहूर्त हैं।

गार्डन में शादी करवाने को वरीयता दे रहें हैं लोग

शादियों के लिए लोगों ने बैक्‍वेट हॉल, गार्डन और होटल बुक करवाने शुरू कर दिए हैं। इस बार कोरोना के डर की वजह से लोग ओपन स्‍पेस जैसे गार्डन में शादी करवाने को वरीयता दे रहे हैं। हालांकि प्रशासन की तरफ से शादियों के सीजन को देखते हुए कोविड से बचाव को लेकर किसी प्रकार की कोई गाइडलाइन जारी नहीं की गई है। अगर सरकार की ओर से नई गाइडलाइन जारी की गई तो हो सकता है कि पहले से बुकिंग करवा चुके लोगों को कुछ नुकसान उठाना पड़े।

नवंबर और दिसंबर के शुभ मुहूर्त

नवंबर माह में 19, 20, 21, 26, 28, 29 और 30 तक कुल सात विवाह के मुहूर्त बताये गए हैं। दिसंबर माह में 1, 2, 6, 8, 9, 11, 12 और 13 तक कुल आठ शुभ मुहूर्त पंडितों ने बताये हैं। 2022 में 15 जनवरी से 22 फरवरी तक शुभ मुहूर्त रहेंगे। वहीं जनवरी माह में 15, 20, 23, 24, 27, 28, 29, 30 और फरवरी माह में 5, 6, 11, 12, 18, 19 और 22 तारीख को विवाहों के मुहूर्त बताये गए हैं।

Edited By: Babita Kashyap