भोपाल पी़टीआइ। मंगलवार को मध्य प्रदेश के मु्ख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि राज्य सरकार निजी क्षेत्र में स्थानीय युवाओं को 70 प्रतिशत रोजगार सुनिश्चित करने के लिए एक कानून लाने पर विचार किया गया है।

 विधानसभा में कमलनाथ नें कहा कि मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग और अन्य नौकरी भर्ती परीक्षाओं में बाहरी अन्य राज्यों के उम्मीदवारों के लिए आयु में छूट पर हस्तक्षेप किया है। पिछले साल मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के बाद उन्होंने कहा था कि उनकी सरकार उन उद्योगों को प्रोत्साहन प्रदान करेगी, जो अपनी नौकरी का 70 प्रतिशत राज्य के लोगों को देते हैं।

 मंगलवार को विधानसभा में प्रश्नकाल के दौरान में बोलते हुए कमलनाथ ने कहा कि उन्हें इस टिप्पणी के लिए बिहार और उत्तर प्रदेश के कई नेताओं की आलोचना का सामना करना पड़ा है। लेकिन उनकी सरकार स्थानीय युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध है।

साथ ही उन्होंने गुजरात, महाराष्ट्र और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में प्रतियोगी परीक्षाओं में स्थानीय भाषा का पेपर होता है। जो मध्य प्रदेश के युवाओं के लिए वहां प्रतियोगिताओं में अवसर कम करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश की सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि स्थानीय युवाओं को राज्य में नौकरियों में प्राथमिकता मिले।

 इससे पहले राज्य के सामान्य प्रशासन मंत्री गोविंद सिंह ने सदन को सूचित किया कि उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुपालन में नौकरी भर्ती परीक्षाओं में बाहर के उम्मीदवारों के लिए उम्र प्रतिबंध हटा दिया गया था।

 वहीं भाजपा सदस्य यशपाल सिंह सिसोदिया द्वारा उठाए गए एक सवाल का जवाब दे रहे थे, जिन्होंने बताया कि मध्य प्रदेश सरकार ने राज्य में आयोजित प्रतियोगी परीक्षाओं में उपस्थित होने के लिए अन्य राज्यों के उम्मीदवारों की आयु सीमा 27 वर्ष से बढ़ाकर 35 वर्ष कर दी है।

Posted By: Jagran News Network