नई दिल्ली, जेएनएन। देश में चल रहे लोकसभा चुनाव के दौरान भी राजनीतिक पार्टियां द्वारा एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का सिलसिला जारी है। इस समय भाजपा में शामिल हुई प्रज्ञा ठाकुर को लेकर राजनीति गरम है। भाजपा ने प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के सामने खड़ा किया है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने गुरुवार को कहा कि दिग्विजय सिंह के सामने प्रज्ञा ठाकुर से बेहतर कोई और उम्मीदवार नहीं हो सकता था।

माधव ने मीडिया से कहा कि यह निर्णय मध्य प्रदेश इकाई द्वारा लिया गया है। वह दिग्विजय सिंह जैसे व्यक्ति के लिए सही चुनौती है, जो इस देश में हिंदू आतंकवाद के संदिग्ध और शरारती विचार के प्रचार के लिए काफी हद तक जिम्मेदार है। उन्होंने आगे कहा कि एक उम्मीदवार जिस पर सिर्फ आरोप हैं, आप इसके लिए पार्टी पर सवाल नहीं उठा सकते।

महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला के प्रज्ञा ठाकुर की उम्मीदवारी पर आपत्ति जताने पर राम माधव ने कहा, 'वे देश के सामान्य नागरिकों के बारे में नहीं सोचते, उन्हें केवल आतंकवादियों के लिए चिंता है। आप देखें कि आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई से वह कितना परेशान है। उनका इस मुद्दे पर आलोचना का कोई मतलब नहीं बनता।

2008 के मालेगांव बम धमाके की मुख्य आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के संसद पहुंचने के सपने पर विराम लग सकता है। साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बुधवार को भाजपा में शामिल हो गईं। बाद में उनका नाम पार्टी के उम्मीदवारों की सूची में सामने आया। ठाकुर को मध्य प्रदेश की भोपाल लोकसभा सीट से मैदान में उतारा गया। ठाकुर ने कहा, 'मैं भोपाल से चुनाव लड़ूंगी और जीतूंगी। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान मेरे साथ हैं।' बता दें कि हाल ही ठाकुर अपने इस चुनाव को 'धर्म युद्ध' बता चुकी है और कह चुकी है कि वो इस युद्ध के लिए तैयार है।

Posted By: Nitin Arora