भोपाल, राज्य ब्यूरो। नेताओं के परिजन को टिकट देने को लेकर मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव के बयान का प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने समर्थन किया है। गौर ने कहा कि नेताओं के बेटे टिकट नहीं मांगेंगे तो क्या घास काटेंगे। सबको टिकट मांगने का अधिकार है। मैंने विधानसभा में अपनी बहू के लिए टिकट मांगा था और अब लोकसभा में अपने लिए टिकट मांग रहा हूं। विदिशा से साधना सिंह भी मैदान में हैं।

गौरतलब है कि टिकट को लेकर शुक्रवार को भाजपा की बैठक के दौरान भार्गव ने दमोह लोकसभा से बेटे अभिषेक भार्गव के लिए टिकट मांगा था। बेटे के लिए टिकट मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा था कि नेता का बेटा टिकट नहीं मांगे तो क्या भीख मांगे? इस पर गौर ने कहा है कि सक्रिय रूप से पार्टी का काम करने वालों को टिकट मांगने का अधिकार है।

मोदी का प्रभाव कम, उम्मीदवार अहम होंगे

गौर ने लोकसभा चुनाव के लिए भाजपा के चेहरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता पर भी टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव के मुकाबले इस बार मोदी का प्रभाव कम है। इसलिए चुनाव में उम्मीदवार अहम होंगे। मैं भी अपने लिए टिकट मांग रहा हूं। लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस से ऑफर मिलने के सवाल पर कान बंद करते हुए उन्होंने कहा कि कुछ बातों में खामोशी ही बेहतर है।

विदिशा से लड़ें साधना सिंह: रामपाल

पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के करीबी और सिलवानी विधायक रामपाल सिंह शनिवार को शिवराज के बंगले पर पहुंचे। उन्होंने मांग रखी कि शिवराज की पत्नी साधना सिंह को विदिशा से चुनाव लड़ाया जाए। एक दिन पहले ही विदिशा लोकसभा क्षेत्र की जनता यह मांग लेकर शिवराज के बंगले पहुंची थी।

उधर, टिकट के दावेदारी लेकर कई नेता शनिवार सुबह शिवराज के निवास पर पहुंचे। शिवराज के दिल्ली जाने से पहले प्रदेश भाजपा अध्यक्ष राकेश सिंह भी उनसे मिलने गए। दोनों के बीच लोकसभा टिकट के नामों को लेकर बातचीत हुई। इसके अलावा भोपाल महापौर आलोक शर्मा, पूर्व मंत्री अर्चना चिटनीस, राज्य महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष लता वानखेड़े ने भी शिवराज के निवास पहुंचकर अपने लिए टिकट मांगा।

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप